Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर —- गज़ल

गज़ल

नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर
कह दें तो चले जायें गे उसकी सजा लेकर

दौलत शोहरत दोनो मंज़िल ही नही मेरी
जीना हैखुदा मुझ को इक तेरी दया ले कर

मजहब की आंधी ने घर कितने ही जला डाले
दुख दर्द लिये बैठे घर लोग जला ले कर

दिन रात करें सेवा वो प्यार मुझे करते
बीमार पडूँ तो झट आते हैं दवा लेकर

अरमान बडे दिल मे पूरे जो करेंगे हम
मंजिल मिल जायेगी लोगों की दुआ ले कर

जिनसे भी वफा करते वो ही बेवफा निकले
जब आग लगे घर मे आते थे हवा लेकर

जो चाहत जीवन की तकदीर कहां देती
जीवन तो बिताना है कर्मों की सजा ले कर

कजरारे नयन उसके हैं होठ गुलाबी से
हिरणी सी वो चाल चले कुछ हुस्न अदा लेकर

जिसने भी शरारत की समझे न हमे कमजोर
हम मार गिरायेंगे दुश्मन का पता लेकर

2 Comments · 273 Views
You may also like:
मजदूर की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-53💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़रा सी देर में सूरज निकलने वाला है
Dr. Sunita Singh
मेरे बेटे ने
Dhirendra Panchal
मन की बात
Rashmi Sanjay
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
Daughter of Nature.
Taj Mohammad
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
इंसाफ के ठेकेदारों! शर्म करो !
ओनिका सेतिया 'अनु '
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
इंतजार का....
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
जुल्म की इन्तहा
DESH RAJ
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
नदियों का दर्द
Anamika Singh
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नयी सुबह फिर आएगी...
मनोज कर्ण
काव्य संग्रह
AJAY PRASAD
हमने प्यार को छोड़ दिया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
अन्याय का साथी
AMRESH KUMAR VERMA
* उदासी *
Dr. Alpa H. Amin
सुधार लूँगा।
Vijaykumar Gundal
Loading...