Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jul 2016 · 1 min read

नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर —- गज़ल

गज़ल

नाराज़ वो क्यों बैठे हैं एक गिला ले कर
कह दें तो चले जायें गे उसकी सजा लेकर

दौलत शोहरत दोनो मंज़िल ही नही मेरी
जीना हैखुदा मुझ को इक तेरी दया ले कर

मजहब की आंधी ने घर कितने ही जला डाले
दुख दर्द लिये बैठे घर लोग जला ले कर

दिन रात करें सेवा वो प्यार मुझे करते
बीमार पडूँ तो झट आते हैं दवा लेकर

अरमान बडे दिल मे पूरे जो करेंगे हम
मंजिल मिल जायेगी लोगों की दुआ ले कर

जिनसे भी वफा करते वो ही बेवफा निकले
जब आग लगे घर मे आते थे हवा लेकर

जो चाहत जीवन की तकदीर कहां देती
जीवन तो बिताना है कर्मों की सजा ले कर

कजरारे नयन उसके हैं होठ गुलाबी से
हिरणी सी वो चाल चले कुछ हुस्न अदा लेकर

जिसने भी शरारत की समझे न हमे कमजोर
हम मार गिरायेंगे दुश्मन का पता लेकर

2 Comments · 350 Views
You may also like:
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
पिता ईश्वर का दूसरा रूप है।
Taj Mohammad
प्रकृति के चंचल नयन
मनोज कर्ण
राम नाम ही बोलिये, महावीरा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आवाज़ उठानी होगी
Shekhar Chandra Mitra
सितारे गर्दिश में
shabina. Naaz
माँ अन्नपूर्णा
Shashi kala vyas
ख्याल में तुम
N.ksahu0007@writer
सृजनकरिता
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*माँ यह ही अरदास (हिंदी गजल/दोहा गीतिका)*
Ravi Prakash
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
कारे कारे बदरा जाओ साजन के पास
Ram Krishan Rastogi
दुर्योधन कब मिट पाया:भाग:37
AJAY AMITABH SUMAN
अगर तुम सावन हो
bhandari lokesh
God has destined me with a unique goal
Manisha Manjari
लाल में तुम ग़ुलाब लगती हो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
श्री गणेश वंदना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
।। अंतर ।।
Skanda Joshi
श्री राधा जन्माष्टमी
बिमल तिवारी आत्मबोध
ना वो हवा ना वो पानी है अब
VINOD KUMAR CHAUHAN
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
■ संस्मरण / "अलविदा"
प्रणय प्रभात
सच होता है कड़वा
gurudeenverma198
होती है अंतहीन
Dr fauzia Naseem shad
तितली तेरे पंख
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
आइए डिजिटल उपवास की ओर बढ़ते हैं!
Deepak Kohli
जीवन व्यर्थ नही है
अनूप अंबर
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
Loading...