Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2023 · 1 min read

*तुलसीदास (कुंडलिया)*

तुलसीदास (कुंडलिया)
➖➖➖➖➖➖➖➖
नायक हैं कविकुलगुरु, बाबा तुलसीदास
पहुॅंची कब कोई कलम, किंचित मानस पास
किंचित मानस पास, राम का चरित सुहाना
श्रोता सुनकर धन्य, धन्य है इसे सुनाना
कहते रवि कविराय, शब्द लय गति सुखदायक
चौपाई माधुर्य,सरस दोहों के नायक
———————————–
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9971 5451

288 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
“ भाषा की मृदुलता ”
“ भाषा की मृदुलता ”
DrLakshman Jha Parimal
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
छोटी कहानी- 'सोनम गुप्ता बेवफ़ा है' -प्रतिभा सुमन शर्मा
Pratibhasharma
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
माँ महागौरी है नमन
माँ महागौरी है नमन
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शुभ दिवाली
शुभ दिवाली
umesh mehra
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है।  ...‌राठौड श्
दुसेरें को इज्जत देना हार मानव का कर्तंव्य है। ...‌राठौड श्
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
*यूं सताना आज़माना छोड़ दे*
sudhir kumar
Today's Thought
Today's Thought
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संत सनातनी बनना है तो
संत सनातनी बनना है तो
Satyaveer vaishnav
"इस्तिफ़सार" ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हाय हाय रे कमीशन
हाय हाय रे कमीशन
gurudeenverma198
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
शूद्र व्यवस्था, वैदिक धर्म की
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मैं एक खिलौना हूं...
मैं एक खिलौना हूं...
Naushaba Suriya
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
जल बचाओ , ना बहाओ
जल बचाओ , ना बहाओ
Buddha Prakash
अहाना छंद बुंदेली
अहाना छंद बुंदेली
Subhash Singhai
बचपन खो गया....
बचपन खो गया....
Ashish shukla
"*पिता*"
Radhakishan R. Mundhra
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
रामलला के विग्रह की जब, भव में प्राण प्रतिष्ठा होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
सितमज़रीफी किस्मत की
सितमज़रीफी किस्मत की
Shweta Soni
डिजिटल भारत
डिजिटल भारत
Satish Srijan
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
मैं इस दुनिया का सबसे बुरा और मुर्ख आदमी हूँ
Jitendra kumar
मैं कैसे कह दूँ कि खतावर नहीं हो तुम
मैं कैसे कह दूँ कि खतावर नहीं हो तुम
VINOD CHAUHAN
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन अपने बसाओ तो
मन अपने बसाओ तो
surenderpal vaidya
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
Loading...