Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Feb 2024 · 1 min read

नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया

———-
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
ज़हनो दिल से तुझे अब हटा भी दिया
शुक्रिया बेवफा तेरा सद शुक्रिया
दूर कैसे रहें ये सिखा भी दिया

तुझसे रिश्ता मुझे अब नही जोड़ना
चाहें इसके लिए सब पड़े छोड़ना
मुझ में चाहत अगर है तो नफ़रत भी है
आ गया है मुझे वक्त को मोड़ना

ये न सोचा था निकलेगा हरजाई वो
दिलके रिश्तों में खोदेगा खुद खाई वो
भोली सूरत पे उसके मै मरती रही
नाम का सिर्फ था मेरा शैदाई वो

रुख कहानी के सब मोड़ के चल दिए
जितने वादे किए तोड़ के चल दिए
इनसे रस्मे वफा क्या निभेगी शमा
हम भी ऐसों को यूं छोड़ कर चल दिए

शमा परवीन बहराइच उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
1 Like · 41 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इतिहास
इतिहास
Dr.Priya Soni Khare
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
आसा.....नहीं जीना गमों के साथ अकेले में
कवि दीपक बवेजा
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Yado par kbhi kaha pahra hota h.
Sakshi Tripathi
अनवरत....
अनवरत....
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
दोस्त को रोज रोज
दोस्त को रोज रोज "तुम" कहकर पुकारना
ruby kumari
बिस्तर से आशिकी
बिस्तर से आशिकी
Buddha Prakash
चुनावी साल का
चुनावी साल का
*Author प्रणय प्रभात*
Blood relationships sometimes change
Blood relationships sometimes change
pratibha5khatik
उर्वशी कविता से...
उर्वशी कविता से...
Satish Srijan
"नजीर"
Dr. Kishan tandon kranti
मित्रता का मोल
मित्रता का मोल
DrLakshman Jha Parimal
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
भुलक्कड़ मामा
भुलक्कड़ मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वो वक्त कब आएगा
वो वक्त कब आएगा
Harminder Kaur
जय जय दुर्गा माता
जय जय दुर्गा माता
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
అమ్మా తల్లి బతుకమ్మ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
भतीजी (लाड़ो)
भतीजी (लाड़ो)
Kanchan Alok Malu
हरे कृष्णा !
हरे कृष्णा !
MUSKAAN YADAV
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
पागल मन कहां सुख पाय ?
पागल मन कहां सुख पाय ?
goutam shaw
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हंसगति
हंसगति
डॉ.सीमा अग्रवाल
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
*कोटि-कोटि हे जय गणपति हे, जय जय देव गणेश (गीतिका)*
Ravi Prakash
वट सावित्री व्रत
वट सावित्री व्रत
Shashi kala vyas
2876.*पूर्णिका*
2876.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
बहुत कुछ जल रहा है अंदर मेरे
डॉ. दीपक मेवाती
Loading...