Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 May 2023 · 1 min read

नाम इंसानियत का

सबक़ नफ़रतों के सभी पढा देना ।
चिराग घरों के सभी बुझा देना ।।

इंसा होना अगर समझ नहीं आये।
नाम इंसानियत का मिटा देना ।।

तेरी दुनिया और तुम ख़ुदा उसके ।
आग पानी में तुम लगा देना ।।

कोशिश करके भी हार जाओगे ।
इतना आसां नहीं हमे मिटा देना ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
6 Likes · 499 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
छायावाद के गीतिकाव्य (पुस्तक समीक्षा)
दुष्यन्त 'बाबा'
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गांव अच्छे हैं।
गांव अच्छे हैं।
Amrit Lal
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
माॅर्डन आशिक
माॅर्डन आशिक
Kanchan Khanna
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
जिन्हें रोते-रोते
जिन्हें रोते-रोते
*Author प्रणय प्रभात*
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
मुझको अपनी शरण में ले लो हे मनमोहन हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
तुम जीवो हजारों साल मेरी गुड़िया
gurudeenverma198
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
हे आदमी, क्यों समझदार होकर भी, नासमझी कर रहे हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कृष्ण वंदना
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
आकाश
आकाश
Dr. Kishan tandon kranti
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
श्री कृष्णा
श्री कृष्णा
Surinder blackpen
अपने हक की धूप
अपने हक की धूप
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दोहे
दोहे
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कोई नही है अंजान
कोई नही है अंजान
Basant Bhagawan Roy
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
बड़ी मुश्किल है ये ज़िंदगी
Vandna Thakur
सिलसिला सांसों का
सिलसिला सांसों का
Dr fauzia Naseem shad
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
मन
मन
Dr.Priya Soni Khare
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
*नमन : वीर हनुमन्थप्पा तथा अन्य (गीत)*
Ravi Prakash
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
रोशनी सूरज की कम क्यूँ हो रही है।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
उम्मीदों के आसमान पे बैठे हुए थे जब,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
भूलकर चांद को
भूलकर चांद को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हम भी तो देखे
हम भी तो देखे
हिमांशु Kulshrestha
Loading...