Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 1 min read

नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार

नाथ शरण तुम राखिए,तुम ही प्राण आधार
दया करो तुम दया निधि,आन पड़ा तेरे द्वार
आन पड़ा तेरे द्वार, तुम्हे नित शीश झुकाऊं
शरण पड़ा में आन,प्रभु में चरण दवाऊं

69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
नन्ही परी
नन्ही परी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
रिश्तों का एक उचित मूल्य💙👭👏👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
हां मैं पारस हूं, तुम्हें कंचन बनाऊंगी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
हासिल नहीं था
हासिल नहीं था
Dr fauzia Naseem shad
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
9--🌸छोड़ आये वे गलियां 🌸
Mahima shukla
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
I was happy
I was happy
VINOD CHAUHAN
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
चली गई है क्यों अंजू , तू पाकिस्तान
gurudeenverma198
मन का कारागार
मन का कारागार
Pooja Singh
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
अपने माँ बाप पर मुहब्बत की नजर
shabina. Naaz
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
ज़िन्दगी वो युद्ध है,
Saransh Singh 'Priyam'
सबके सामने रहती है,
सबके सामने रहती है,
लक्ष्मी सिंह
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
समय और स्वास्थ्य के असली महत्त्व को हम तब समझते हैं जब उसका
Paras Nath Jha
इक तमन्ना थी
इक तमन्ना थी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
इश्क में हमसफ़र हों गवारा नहीं ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
💐प्रेम कौतुक-545💐
💐प्रेम कौतुक-545💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"शिक्षक"
Dr Meenu Poonia
👗कैना👗
👗कैना👗
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
2879.*पूर्णिका*
2879.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
हमारा ऐसा हो गणतंत्र।
सत्य कुमार प्रेमी
Badalo ki chirti hui meri khahish
Badalo ki chirti hui meri khahish
Sakshi Tripathi
* कभी दूरियों को *
* कभी दूरियों को *
surenderpal vaidya
सत्यम शिवम सुंदरम
सत्यम शिवम सुंदरम
Harminder Kaur
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
रामभरोसे चल रहा, न्यायालय का काम (कुंडलिया)
Ravi Prakash
बुला लो
बुला लो
Dr.Pratibha Prakash
प्रेम का चौथा नेत्र
प्रेम का चौथा नेत्र
Awadhesh Singh
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
Loading...