Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

नाजुक देह में ज्वाला पनपे

नाजुक देह में ज्वाला पनपे
कौन सहेगा तपिश यहाँ
बरसों से अब बारिश को
तरस रही है झितिज जहां

लक्ष्मी जैसी बाई कहां अब
वीर शिवा सा योद्धा नहीं
कृष्ण सा गुरु नहीं अब
अर्जुन सा शिष्य कहाँ..

पहले जैसा धैर्य कहां अब
मुख पर रख्खी है ज्वाला
चारों ओर जहर है विखरा
पहले जैसी अब हवा कहाँ

बिना दर्द के जख्म नभ दे
मां पर कोई ऐसी दवा कहां

✍️कवि दीपक सरल

Language: Hindi
46 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
*घर की चौखट को लॉंघेगी, नारी दफ्तर जाएगी (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
नदी
नदी
नूरफातिमा खातून नूरी
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
उफ़ वो उनकी कातिल भरी निगाहें,
Vishal babu (vishu)
चश्म–ए–बद दूर
चश्म–ए–बद दूर
Awadhesh Singh
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
#दिनांक:-19/4/2024
#दिनांक:-19/4/2024
Pratibha Pandey
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
मिलना अगर प्रेम की शुरुवात है तो बिछड़ना प्रेम की पराकाष्ठा
Sanjay ' शून्य'
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
बुंदेली दोहे-फदाली
बुंदेली दोहे-फदाली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
बाबा साहब एक महान पुरुष या भगवान
जय लगन कुमार हैप्पी
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
क्षितिज पार है मंजिल
क्षितिज पार है मंजिल
Atul "Krishn"
हिन्दू एकता
हिन्दू एकता
विजय कुमार अग्रवाल
हवन
हवन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
कैसे निभाऍं उस से, कैसे करें गुज़ारा।
सत्य कुमार प्रेमी
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
किसी भी देश काल और स्थान पर भूकम्प आने का एक कारण होता है मे
Rj Anand Prajapati
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
यह तुम्हारी नफरत ही दुश्मन है तुम्हारी
gurudeenverma198
2901.*पूर्णिका*
2901.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
हिन्दी में ग़ज़ल की औसत शक़्ल? +रमेशराज
कवि रमेशराज
"दोस्ती"
Dr. Kishan tandon kranti
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
जब हर एक दिन को शुभ समझोगे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वर्तमान में जो जिये,
वर्तमान में जो जिये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
ताउम्र जलता रहा मैं तिरे वफ़ाओं के चराग़ में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
दिल धड़कता नही अब तुम्हारे बिना
Ram Krishan Rastogi
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
आज फिर वही पहली वाली मुलाकात करनी है
पूर्वार्थ
Loading...