Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jun 2023 · 1 min read

नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण

नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण

नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, जब तक तन में प्राण
श्री चरणों में नमन मातु, मां तुम थीं जीवन प्राण
तुम मुझको इस जग में लाईं, तुमने सृष्टि दिखाई
अश्रु विंदु के गंगा जल से, तर्पण और विदाई
नहीं भुला पाएंगे माते, महान गोद सुखदाई
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको, तुमने मुझको पहचान दी
तुमसे बढ़कर नहीं जगत में, तुम करुणा थीं भगवान की
नहीं आशीर्वाद मां तेरे जैसा, तुम आशीष थीं श्री भगवान की
तेरे आंचल में पाईं मां, खुशियां सकल जहान की
तेरे चरणों में तीरथ हैं , तुम झोली थीं बरदान की
त्याग तपस्या की मूरत , तुम सूरत थीं बलिदान की
तीन लोक में नहीं है तुम सा, तुम मूरत थीं भगवान की
नहीं है कोई जग में उपमा, न मां समान कोई नाता
श्री चरणों में नमन है माता, तुम जीवन भाग्य विधाता
नहीं भुला पाएंगे मां तुमको,जब तक तन में प्राण
रोम रोम है ऋणी तुम्हारा, मां कोटि कोटि प्रणाम 🙏🙏
आपकी पूज्य माता जी श्रीमती कुंती व्यास जी के देव लोक गमन पर सादर श्रद्धांजलि।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

3 Likes · 1 Comment · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेश कुमार चतुर्वेदी
View all
You may also like:
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
जिन्दगी सदैव खुली किताब की तरह रखें, जिसमें भावनाएं संवेदनशी
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
हर बार बिखर कर खुद को
हर बार बिखर कर खुद को
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
2 जून की रोटी की खातिर जवानी भर मेहनत करता इंसान फिर बुढ़ापे
Harminder Kaur
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
■ आज की परिभाषा याद कर लें। प्रतियोगी परीक्षा में काम आएगी।
*Author प्रणय प्रभात*
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
** चिट्ठी आज न लिखता कोई **
surenderpal vaidya
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
प्रेम.......................................................
प्रेम.......................................................
Swara Kumari arya
जनक छन्द के भेद
जनक छन्द के भेद
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Srishty Bansal
2695.*पूर्णिका*
2695.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
रिसाइकल्ड रिश्ता - नया लेबल
Atul "Krishn"
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
*जीवन खड़ी चढ़ाई सीढ़ी है सीढ़ियों में जाने का रास्ता है लेक
Shashi kala vyas
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंगद के पैर की तरह
अंगद के पैर की तरह
Satish Srijan
*प्यार तो होगा*
*प्यार तो होगा*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
मोहब्बत
मोहब्बत
अखिलेश 'अखिल'
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
*छोड़ा पीछे इंडिया, चले गए अंग्रेज (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ये पैसा भी गजब है,
ये पैसा भी गजब है,
Umender kumar
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और  गृह स्
स्वयं द्वारा किए कर्म यदि बच्चों के लिए बाधा बनें और गृह स्
Sanjay ' शून्य'
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
बाधाएं आती हैं आएं घिरे प्रलय की घोर घटाएं पावों के नीचे अंग
पूर्वार्थ
सीधी मुतधार में सुधार
सीधी मुतधार में सुधार
मानक लाल मनु
दीवाना हूं मैं
दीवाना हूं मैं
Shekhar Chandra Mitra
करके याद तुझे बना रहा  हूँ  अपने मिजाज  को.....
करके याद तुझे बना रहा हूँ अपने मिजाज को.....
Rakesh Singh
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
मौन धृतराष्ट्र बन कर खड़े हो
DrLakshman Jha Parimal
Loading...