Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 May 2024 · 1 min read

नहीं-नहीं प्रिये

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:-नहीं-नहीं प्रिये!

ध्रुव तारा को देखो प्रिये ,
अडिग अपनी जगह खड़ा ।
निश्छल निश्चिंत निर्विवाद,
चाह की राह में शून्य-सा पड़ा।

मौसम का किरदार साथी बनता,
कभी गरजता कभी तपन चुनता।
याद झरोखे पर, भाव दरवाजे पर,
प्रेम, प्रेम को चाँद सितारों से बुनता।

गहरा कितना भेदना मुश्किल,
जैसे अंधेरे में चलना मुश्किल।
गम खुशी क्रमशः आते- जाते,
अस्थिरता ऐसी कुछ कहना मुश्किल।

बातों की बहती रसधार अनवरत ,
स्नेहिल खुमार परत दर परत,
एक पल की दूरी प्रतीत अनगिनत साल,
ओह मोहब्बत से दूरी जीवन होगा नरक।

नहीं- नहीं प्रिये!
कभी न विछोह की कसम खाते हैं,
तेरे बिना खुद को अधूरा-सा पाते हैं
प्रेम की सोंधी खुशबू बिखरी सॉसों में,
चल एक दूजे की बाँहों में समा जाते हैं ।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
2 Likes · 29 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3294.*पूर्णिका*
3294.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रिश्ते
रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
The Moon and Me!!
The Moon and Me!!
Rachana
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
Dating Affirmations:
Dating Affirmations:
पूर्वार्थ
बरसात...
बरसात...
डॉ.सीमा अग्रवाल
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
Shweta Soni
■
■ "अ" से "ज्ञ" के बीच सिमटी है दुनिया की प्रत्येक भाषा। 😊
*प्रणय प्रभात*
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
शब्दों का गुल्लक
शब्दों का गुल्लक
Amit Pathak
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
हर चढ़ते सूरज की शाम है,
Lakhan Yadav
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
अज़ीज़ टुकड़ों और किश्तों में नज़र आते हैं
Atul "Krishn"
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Dr.Pratibha Prakash
संसार एक जाल
संसार एक जाल
Mukesh Kumar Sonkar
-- ग़दर 2 --
-- ग़दर 2 --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
सावन के झूलें कहे, मन है बड़ा उदास ।
रेखा कापसे
राजकुमारी कार्विका
राजकुमारी कार्विका
Anil chobisa
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
हनुमान वंदना । अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो।
Kuldeep mishra (KD)
कान्हा घनाक्षरी
कान्हा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
हमेशा अच्छे लोगों के संगत में रहा करो क्योंकि सुनार का कचरा
Ranjeet kumar patre
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
बौद्ध धर्म - एक विस्तृत विवेचना
Shyam Sundar Subramanian
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चुप्पी!
चुप्पी!
कविता झा ‘गीत’
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
वसंत पंचमी
वसंत पंचमी
Dr. Vaishali Verma
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
यदि आपका चरित्र और कर्म श्रेष्ठ हैं, तो भविष्य आपका गुलाम हो
Lokesh Sharma
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
बीती एक और होली, व्हिस्की ब्रैंडी रम वोदका रंग ख़ूब चढे़--
Shreedhar
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
कुछ कमीने आज फ़ोन करके यह कह रहे चलो शाम को पार्टी करते हैं
Anand Kumar
Loading...