Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Feb 2021 · 1 min read

नवगीत

कवि जो कुछ लिखता है

कवि जो कुछ लिखता है, वह
भाषा की संपति है |

मुँह से निकले हर अक्षर की
कोमल काया है,
रचनाओं के उठते पुल का
मंथन पाया है,
पीड़ा की उमड़ी लहरों की
भावित पंगति है |

भूली बिसरी यादों की छत
ईंट सुहानी है,
शब्दों के संवादों की यह
नई कहानी है,
यह सामाजिक घटनाक्रम की
छाया संप्रति है |

आसमान का पूर्व क्षितिज है
सूरज का रथ है,
भावों की यात्राओं की वह
पगडण्डी, पथ है,
ध्वनि-तुरही के नसतरंग की,
स्नेहिल संगति है |

शब्दावलियों के गमलों का
घेरा, यह थाला,
अनुभव के अनुषंगों की है,
गुथी हुई माला,
वाणी के लय ताल छंद की,
अनुपद दंपति है |

शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी
मेरठ

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 490 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Keep On Trying!
Keep On Trying!
R. H. SRIDEVI
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अस्थिर मन
अस्थिर मन
Dr fauzia Naseem shad
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
*पुष्प-मित्र रमेश कुमार जैन की कविताऍं*
Ravi Prakash
अंतिम क्षणों का संदेश
अंतिम क्षणों का संदेश
पूर्वार्थ
सविनय निवेदन
सविनय निवेदन
कृष्णकांत गुर्जर
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
हमें ना शिकायत है आप सभी से,
Dr. Man Mohan Krishna
कोरे पन्ने
कोरे पन्ने
Dr. Seema Varma
ख्याल
ख्याल
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
भारत की पुकार
भारत की पुकार
पंकज प्रियम
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
डूबता सुरज हूँ मैं
डूबता सुरज हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
हर कदम बिखरे थे हजारों रंग,
Kanchan Alok Malu
" नारी का दुख भरा जीवन "
Surya Barman
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
बह्र - 1222-1222-122 मुफ़ाईलुन मुफ़ाईलुन फ़ऊलुन काफ़िया - आ रदीफ़ -है।
Neelam Sharma
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
14- वसुधैव कुटुम्ब की, गरिमा बढाइये
Ajay Kumar Vimal
कलियुग की संतानें
कलियुग की संतानें
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
भावक की नीयत भी किसी रचना को छोटी बड़ी तो करती ही है, कविता
Dr MusafiR BaithA
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चन्द्रमाँ
चन्द्रमाँ
Sarfaraz Ahmed Aasee
सावन बरसता है उधर....
सावन बरसता है उधर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"फूल बिखेरता हुआ"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...