Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।

ग़ज़ल

1222/1222/1222/1222
जहां पर जन्म पाया है वो मां के गोद जैसा है।
शहर जैसा नहीं तो क्या हमारा गांव अच्छा है।1

वहां की धूल मिट्टी याद आती नाव कागज की,
वो करना चाहता है सब जो मेरे दिल में बच्चा है।2

हमारे प्राथमिक स्कूल जिसमें जा के पढ़ते थे,
अभी भी याद गुरुजन टाट-फट्टे पाटी-बस्ता है।3

जो थे शैतान औ’ र शैतानियों पर खूब हॅंसते थे,
वो साथी याद आते है, यहां अब कौन हॅंसता है।4

जहां पर आज भी सुख दुख में शामिल होते हैं हम सब,
वहां इंसान का इंसान से अब तक भी रिश्ता है।

मैं प्रेमी हूं मुझे प्यारी है अपनी सरजमीं अब भी,
मेरा है गांव जैसा है वो मेरे दिल में बसता है।6

………✍️ सत्य कुमार प्रेमी

1 Like · 136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कबूतर
कबूतर
Vedha Singh
*शब्द*
*शब्द*
Sûrëkhâ Rãthí
शव शरीर
शव शरीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
*प्लीज और सॉरी की महिमा {हास्य-व्यंग्य}*
Ravi Prakash
Needs keep people together.
Needs keep people together.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
💐प्रेम कौतुक-424💐
💐प्रेम कौतुक-424💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*Author प्रणय प्रभात*
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
बेवफाई करके भी वह वफा की उम्मीद करते हैं
Anand Kumar
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
"शब्दकोश में शब्द नहीं हैं, इसका वर्णन रहने दो"
Kumar Akhilesh
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
धनतेरस और रात दिवाली🙏🎆🎇
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चुप
चुप
Ajay Mishra
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
कर्म -पथ से ना डिगे वह आर्य है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*** मां की यादें ***
*** मां की यादें ***
Chunnu Lal Gupta
मैं कुछ इस तरह
मैं कुछ इस तरह
Dr Manju Saini
आग से जल कर
आग से जल कर
हिमांशु Kulshrestha
मायूस ज़िंदगी
मायूस ज़िंदगी
Ram Babu Mandal
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
हर कभी ना माने
हर कभी ना माने
Dinesh Gupta
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
हिंदी दोहा बिषय- बेटी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
2815. *पूर्णिका*
2815. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
अंधेरों में अस्त हो, उजाले वो मेरे नाम कर गया।
Manisha Manjari
कोई मरहम
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
भुलाना ग़लतियाँ सबकी सबक पर याद रख लेना
आर.एस. 'प्रीतम'
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
कभी अपनेे दर्दो-ग़म, कभी उनके दर्दो-ग़म-
Shreedhar
Loading...