Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Oct 2016 · 1 min read

नया दौर

फैशन की दोड मे सब आगे है
शायद यहीं नया दौर है
मम्मी पापा है परम्परावादी
मूल्यों की वे आधारशिला
वक्त ने बदला हैं उनको बेजोड़
पर मानस में है पुरानी सोच
शायद यहीं नया दौड़ है

भारतीय सभ्यता की है बेकद्री
पाश्चात्य सभ्यता को है ताली
पारलर सैलून खूब सजते
हजारों चेहरे यहाँ पूतते है
मेहनत के धन का दुरूपयोग है
बेबसियों का कैसा दौर है
शायद यहीं नया दौर है

बाला सुंदर सुंदर सजती है
मियाँ जी की कमाई बराबर करती है
टेन्शन खूब बढाती है
अपने को चाँद बना दिखलाती है
प्रिय प्राणेश्वर की दीवाणी है
हरदम न्यौछावर रहने वाली है
शायद यही नया दौर है

हिन्दी पर अंग्रेजी हावी है
भाषा बोलने में खराबी है
अंग्रेजी अपनी दासी है
हिन्दी कंजूसी सिखाती है
ना हम हिंदूस्तानी हैल

बाजार जब मैं जाती हूँ
मम्माओं को स्कर्ट शर्ट,जीन्स टॉप
पहना हुआ पाती हूँ
मम्मा बेटी में नहीं लगता अन्तर
बेटी से माँ का चेहरा
सुहाना है लगता
शायद यहीं नया दौर है

अंग्रेजी पढना शान है
हिन्दी से हानि है
नयी पीढ़ी यहीं समझती है
इसलिये हिन्दी अंग्रेजी गड़बड़ाती
नौनिहालों का बुरा हाल है
माँ को मॉम कहक
पिता को डैड कहकर
हिन्दुस्तान का सत्यानाश है
शायद यहीं नया दौर है

बुजुर्ग वृद्धाश्रम की आन है
घर में नवविवाहिता का राज है
मर्द भी भूल गया पावन चरणों को
जिनकी छाया में में बना विशाल वट है
संस्कृति , मूल्यों का ह्रास हो रहा
पाश्चात्य रंग सभी पर निखर रहा
शायद यही नया दौर है

डॉ मधु त्रिवेदी
आगरा

Language: Hindi
72 Likes · 461 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
■ जंगल में मंगल...
■ जंगल में मंगल...
*Author प्रणय प्रभात*
प्यार की कलियुगी परिभाषा
प्यार की कलियुगी परिभाषा
Mamta Singh Devaa
कितने फ़र्ज़?
कितने फ़र्ज़?
Shaily
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
*खींचो अपने हाथ से, अपनी नई लकीर (नौ दोहे)*
*खींचो अपने हाथ से, अपनी नई लकीर (नौ दोहे)*
Ravi Prakash
2496.पूर्णिका
2496.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रथम मिलन
प्रथम मिलन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#शिवाजी_के_अल्फाज़
#शिवाजी_के_अल्फाज़
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
#justareminderdrarunkumarshastri
#justareminderdrarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शुद्धिकरण
शुद्धिकरण
Kanchan Khanna
Writing Challenge- खाली (Empty)
Writing Challenge- खाली (Empty)
Sahityapedia
*इस बरस*
*इस बरस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सुहागन का शव
सुहागन का शव
Anil "Aadarsh"
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
You are the sanctuary of my soul.
You are the sanctuary of my soul.
Manisha Manjari
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
कलम के सहारे आसमान पर चढ़ना आसान नहीं है,
Dr Nisha nandini Bhartiya
यह मकर संक्रांति
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
पहली दफा
पहली दफा
जय लगन कुमार हैप्पी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
अपना चेहरा
अपना चेहरा
Dr fauzia Naseem shad
करती पुकार वसुंधरा.....
करती पुकार वसुंधरा.....
Kavita Chouhan
"माँ की छवि"
Ekta chitrangini
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
हुआ बुद्ध धम्म उजागर ।
Buddha Prakash
वादा है अपना
वादा है अपना
Shekhar Chandra Mitra
बचपन
बचपन
लक्ष्मी सिंह
Loading...