Oct 19, 2016 · 1 min read

नया दौर

फैशन की दोड मे सब आगे है
शायद यहीं नया दौर है
मम्मी पापा है परम्परावादी
मूल्यों की वे आधारशिला
वक्त ने बदला हैं उनको बेजोड़
पर मानस में है पुरानी सोच
शायद यहीं नया दौड़ है

भारतीय सभ्यता की है बेकद्री
पाश्चात्य सभ्यता को है ताली
पारलर सैलून खूब सजते
हजारों चेहरे यहाँ पूतते है
मेहनत के धन का दुरूपयोग है
बेबसियों का कैसा दौर है
शायद यहीं नया दौर है

बाला सुंदर सुंदर सजती है
मियाँ जी की कमाई बराबर करती है
टेन्शन खूब बढाती है
अपने को चाँद बना दिखलाती है
प्रिय प्राणेश्वर की दीवाणी है
हरदम न्यौछावर रहने वाली है
शायद यही नया दौर है

हिन्दी पर अंग्रेजी हावी है
भाषा बोलने में खराबी है
अंग्रेजी अपनी दासी है
हिन्दी कंजूसी सिखाती है
ना हम हिंदूस्तानी हैल

बाजार जब मैं जाती हूँ
मम्माओं को स्कर्ट शर्ट,जीन्स टॉप
पहना हुआ पाती हूँ
मम्मा बेटी में नहीं लगता अन्तर
बेटी से माँ का चेहरा
सुहाना है लगता
शायद यहीं नया दौर है

अंग्रेजी पढना शान है
हिन्दी से हानि है
नयी पीढ़ी यहीं समझती है
इसलिये हिन्दी अंग्रेजी गड़बड़ाती
नौनिहालों का बुरा हाल है
माँ को मॉम कहक
पिता को डैड कहकर
हिन्दुस्तान का सत्यानाश है
शायद यहीं नया दौर है

बुजुर्ग वृद्धाश्रम की आन है
घर में नवविवाहिता का राज है
मर्द भी भूल गया पावन चरणों को
जिनकी छाया में में बना विशाल वट है
संस्कृति , मूल्यों का ह्रास हो रहा
पाश्चात्य रंग सभी पर निखर रहा
शायद यही नया दौर है

डॉ मधु त्रिवेदी
आगरा

72 Likes · 248 Views
You may also like:
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
चिंता और चिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
बारी है
वीर कुमार जैन 'अकेला'
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
प्रेम...
Sapna K S
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
An Oasis And My Savior
Manisha Manjari
*जिंदगी को वह गढ़ेंगे ,जो प्रलय को रोकते हैं*( गीत...
Ravi Prakash
*!* मोहब्बत पेड़ों से *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
एक मसीहा घर में रहता है।
Taj Mohammad
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रकृति का अंदाज.....
Dr. Alpa H.
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
💐प्रेम की राह पर-23💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
फूलों की वर्षा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मां ने।
Taj Mohammad
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
"एक यार था मेरा"
Lohit Tamta
जब वो कृष्णा मेरे मन की आवाज़ बन जाता है।
Manisha Manjari
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
Loading...