Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Nov 2023 · 1 min read

नम्रता

नम्रता से देवता भी मनुष्य के वश में हो जाते हैं।
प्रताड़ना से पशु भी मनुष्य से दूर हो जाते हैं।।

2 Likes · 106 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
💐प्रेम कौतुक-242💐
💐प्रेम कौतुक-242💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अन्न का मान
अन्न का मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
ये मन रंगीन से बिल्कुल सफेद हो गया।
Dr. ADITYA BHARTI
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
सम्मान तुम्हारा बढ़ जाता श्री राम चरण में झुक जाते।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दिलबर दिलबर
दिलबर दिलबर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वेदना में,हर्ष  में
वेदना में,हर्ष में
Shweta Soni
--> पुण्य भूमि भारत <--
--> पुण्य भूमि भारत <--
Ms.Ankit Halke jha
ले आओ बरसात
ले आओ बरसात
Santosh Barmaiya #jay
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
दो अक्टूबर
दो अक्टूबर
नूरफातिमा खातून नूरी
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
"Radiance of Purity"
Manisha Manjari
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU
2298.पूर्णिका
2298.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
💜💠💠💠💜💠💠💠💜
Manoj Kushwaha PS
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
If you ever need to choose between Love & Career
If you ever need to choose between Love & Career
पूर्वार्थ
क्या बात है फौजी
क्या बात है फौजी
Satish Srijan
ओ चाँद गगन के....
ओ चाँद गगन के....
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरे दिल में कब आएं हम
तेरे दिल में कब आएं हम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माईया पधारो घर द्वारे
माईया पधारो घर द्वारे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
बड़ी मोहब्बतों से संवारा था हमने उन्हें जो पराए हुए है।
Taj Mohammad
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
पोता-पोती बेटे-बहुएँ,आते हैं तो उत्सव है (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
Loading...