Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2023 · 1 min read

नत मस्तक हुआ विज्ञान

नत मस्तक हुआ विज्ञान
आज प्रकृति के आगे ,
प्रदूषण की है मार पड़ी
कहाँ जाएँ मनुज अभागे ।

साँस लेना हुआ दूभर
प्राण वायु नखरे दिखाए,
बता दो ऐ दिल्ली हमें
जाएँ तो अब कहाँ जाएँ ।

दूर दूर से आए यहाँ हम
रोजी रोटी कमाने को ,
पर रहना भी है मुश्किल
हवा शुद्ध नहीं जीने को ।

क्या हो भौतिक विकास का
जब पर्यावरण दूषित होगा ,
बीमार मनुजता क्या करेगी
स्वस्थ नहीं तन मन होगा ।

जागो मानुष अब भी जागो
प्रकृति का सम्मान करो ,
वृक्ष लगा सूखी धरती पर
उसका पूर्ण शृंगार करो ।

देगी सुफल उसका तुमको
पीढ़ियाँ तक सुख उठाएँगी ,
हरी भरी होकर ये वसुधा
प्रदूषण मुक्त हो जाएगी ।

डॉ रीता सिंह
चन्दौसी सम्भल

Language: Hindi
2 Likes · 406 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Rita Singh
View all
You may also like:
बेशर्मी
बेशर्मी
Sanjay ' शून्य'
खत पढ़कर तू अपने वतन का
खत पढ़कर तू अपने वतन का
gurudeenverma198
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
कवि दीपक बवेजा
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
*आस्था*
*आस्था*
Dushyant Kumar
पहाड़ पर कविता
पहाड़ पर कविता
Brijpal Singh
ये चांद सा महबूब और,
ये चांद सा महबूब और,
शेखर सिंह
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
चुनावी वादा
चुनावी वादा
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
वो भ्रम है वास्तविकता नहीं है
Keshav kishor Kumar
तुम्हारी दुआ।
तुम्हारी दुआ।
सत्य कुमार प्रेमी
धन्यवाद बादल भैया (बाल कविता)
धन्यवाद बादल भैया (बाल कविता)
Ravi Prakash
3167.*पूर्णिका*
3167.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
इधर एक बीवी कहने से वोट देने को राज़ी नहीं। उधर दो कौड़ी के लो
*प्रणय प्रभात*
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
❤️🌺मेरी मां🌺❤️
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
तुम्हारी सब अटकलें फेल हो गई,
Mahender Singh
"मनुष्य"
Dr. Kishan tandon kranti
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
बस फेर है नज़र का हर कली की एक अपनी ही बेकली है
Atul "Krishn"
जिंदगी
जिंदगी
Seema gupta,Alwar
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
विषय :- काव्य के शब्द चुनाव पर |
Sûrëkhâ
शिक्षक दिवस
शिक्षक दिवस
नूरफातिमा खातून नूरी
Acrostic Poem- Human Values
Acrostic Poem- Human Values
jayanth kaweeshwar
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
सहज रिश्ता
सहज रिश्ता
Dr. Rajeev Jain
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
साथ चली किसके भला,
साथ चली किसके भला,
sushil sarna
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
5. *संवेदनाएं*
5. *संवेदनाएं*
Dr Shweta sood
Loading...