Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jun 2023 · 1 min read

नग मंजुल मन भावे

नग मंजुल मन भावे
*****************

उत्सेध पहाड़ी अतल खाड़ी
भरी सतरंगी हरियाली

रुक्ष की हिम फुहार
चांदनी सी पर्ण निराली

नीले अंबर सफेद घन घटा
सतरंगी इंद्रधनुष रंग बिखेरे

सांझ उषा की स्वर्णिम लाली
नगर बाला उमंग की हाली

कुदरत नग मंजुल मन भावे
मनोहर मंजुल तरु नग साजे

शब्द मुक्त रमणीय वादी
सुमन युक्त विहंगम भांति

पत्थर. चट्टान की घाटी
नीड़ विहीन. सूनी तम

शब्द मुक्त रमणीय वादी
सुमन युक्त विहंगम भांति
पाषाण चट्टान की घाटी
नीड़ विहीन सूनी तम
हिम शिखर झरने जल प्रपात
लुढ़क पटक टक्करा चट्टानों से
तराश पत्थर तस्वीर उभारती
मन मदिर की आराध्य बनाती

छल छल कल कल सरगम से
अमर मधुर संगीत सुनाती
नद्य नाले इक पथ निराली
महानदी इक आकार बनाती

गंगा यमुना सरस्वती नर्मदा
सिंधु कावेरी कृष्णा गोदावरी
नाम से नद्य जानी जाती
संग संगम से सागर बनाती

सागर संगम महासागर बनती
दे पानी जलद बरखा करती
रुख पावस जीवन जल
प्राणी में वायु संचार करती

खगचर नभचर जलचर तमीचर
निरवलम्ब सभ्यता दर्शाती

शैल शैलानी पर्यटन थल
नग मंजुल मन सबको भावे

विश्व पटल पर रंगोली इक
नग मंजुल मन चर्चा बनती

माँ भारती का मान बढ़ती
विश्व धरोहर बन कर इक

सुरक्षित संरक्षित हो जाते
नग मंजुल मन सबको भावे

+++++कवि :+++++++

तारकेश्वर प्रसाद तरुण

Language: Hindi
4 Likes · 229 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
View all
You may also like:
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
धूप निकले तो मुसाफिर को छांव की जरूरत होती है
कवि दीपक बवेजा
"मार्केटिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
जिद बापू की
जिद बापू की
Ghanshyam Poddar
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
(5) नैसर्गिक अभीप्सा --( बाँध लो फिर कुन्तलों में आज मेरी सूक्ष्म सत्ता )
Kishore Nigam
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
*खरगोश (बाल कविता)*
*खरगोश (बाल कविता)*
Ravi Prakash
भ्रम अच्छा है
भ्रम अच्छा है
Vandna Thakur
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो ,  प्यार की बौछार से उज
हर हाल में खुश रहने का सलीका तो सीखो , प्यार की बौछार से उज
DrLakshman Jha Parimal
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
ये आँधियाँ हालातों की, क्या इस बार जीत पायेगी ।
Manisha Manjari
💐प्रेम कौतुक-468💐
💐प्रेम कौतुक-468💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
2935.*पूर्णिका*
2935.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
माना के तुम ने पा लिया
माना के तुम ने पा लिया
shabina. Naaz
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
■ मौलिकता का अपना मूल्य है। आयातित में क्या रखा है?
*Author प्रणय प्रभात*
मैं तो निकला था,
मैं तो निकला था,
Dr. Man Mohan Krishna
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Gamo ko chhipaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
Raat gai..
Raat gai..
Vandana maurya
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
स्त्रियां पुरुषों से क्या चाहती हैं?
अभिषेक किसनराव रेठे
सत्य = सत ( सच) यह
सत्य = सत ( सच) यह
डॉ० रोहित कौशिक
आलता-महावर
आलता-महावर
Pakhi Jain
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
एकदम सुलझे मेरे सुविचार..✍️🫡💯
Ms.Ankit Halke jha
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
रुख़सारों की सुर्खियाँ,
sushil sarna
************ कृष्ण -लीला ***********
************ कृष्ण -लीला ***********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
चंद तारे
चंद तारे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
एक शे'र
एक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता
खुद से बिछड़े बहुत वक्त बीता "अयन"
Mahesh Tiwari 'Ayan'
Loading...