Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

नग्नता को रोकना होगा

नग्नता को रोकना होगा……….
यदि संस्कृति बचाना चाहते हो
यदि भारतीयता बचाना चाहते हो
तो नग्नता को रोकना होगा……….

आध्यात्म को समझना होगा
समाज में सौहार्द चाहते हो
परिवार में प्यार चाहते हो
सत्य ज्ञान समझना होगा
इस फूहड़ नग्नता को रोकना होगा
तो नग्नता को रोकना होगा……….

नारी मनोरंजन मात्र रह गई
इसे फिर सम्मान को पाना होगा
आम्रपाली या खुद वैशाली को
तथागत शरण में आना होगा
इस नग्नता को रोकना होगा
………

छोटे हुए परिधानों में
न्यून हो चुके अवसानों में
लज़्ज़ा का संस्करण देना होगा
नहीं दरवाजों में सिकोड़ना होगा
इस नग्नता को रोकना ही होगा
तो नग्नता को रोकना होगा……….

पुरुष नहीं अधिकारी भोग का
स्त्री नहीं भोग कोई वस्तु है
नहीं मनोरंजन महलों का
न ही अर्थ का कोई साधन है
ये व्यापर अब रोकना होगा
तो नग्नता को रोकना होगा……….

हज़ारो पद्मियों की कह रही चिताएं
हमने जौहर दिखलाया था
अपनी अस्मिता को प्राणों का
भय भी न डगमगा पाया था
शपथ उन्ही वीर बालाओं की
इस नग्नता को रोकना होगा

संसद में बैठ देखते मूवी पोर्न जो
निष्काषित समाज से करना होगा
अब ये साहस दिखलाना होगा
कोई तो शस्त्र उठाना होगा
खुद को स्वयं बचाना होगा
इस नग्नता को रोकना होगा

बनकर चंडी महिषासुर को
या काली बन रक्तबीज को
या भोली सूरत के नटवरलाल को
या फिर नेताओं की चाल को
कहीं न कहीं रोकना होगा
तो इस नग्नता को रोकना होगा

Language: Hindi
24 Likes · 5 Comments · 812 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr.Pratibha Prakash
View all
You may also like:
अभी ख़ुद से बाहर
अभी ख़ुद से बाहर
Dr fauzia Naseem shad
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
खोकर अपनों को यह जाना।
खोकर अपनों को यह जाना।
लक्ष्मी सिंह
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
दो शब्द यदि हम लोगों को लिख नहीं सकते
DrLakshman Jha Parimal
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
प्रतीक्षा में गुजरते प्रत्येक क्षण में मर जाते हैं ना जाने क
पूर्वार्थ
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदा।
अनिल "आदर्श"
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
मन खामोश है
मन खामोश है
Surinder blackpen
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
"बदलते रसरंग"
Dr. Kishan tandon kranti
" लोग "
Chunnu Lal Gupta
हम साथ साथ चलेंगे
हम साथ साथ चलेंगे
Kavita Chouhan
यातायात के नियमों का पालन हम करें
यातायात के नियमों का पालन हम करें
gurudeenverma198
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
*आवारा कुत्तों की समस्या: नगर पालिका रामपुर द्वारा आवेदन का
Ravi Prakash
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
VINOD CHAUHAN
मेरी प्यारी हिंदी
मेरी प्यारी हिंदी
रेखा कापसे
खामोश आवाज़
खामोश आवाज़
Dr. Seema Varma
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
प्यार लिक्खे खतों की इबारत हो तुम।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
विनय
विनय
Kanchan Khanna
जरूरी बहुत
जरूरी बहुत
surenderpal vaidya
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/19.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
का कहीं रहन अपना सास के
का कहीं रहन अपना सास के
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...