Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Sep 2023 · 1 min read

“नए पुराने नाम”

“नए पुराने नाम”
बोलते होंगे शहर के लोग
बम्बई को मुम्बई,
कलकत्ता को कोलकाता
मद्रास को चेन्नई।
मगर हमारे यहाँ देहात में
पुराने नाम लेते हुए
सुना है लोगों को तमाम,
लिखते वक्त भी याद आता
मुझे शहरों का पुराना नाम।

10 Likes · 5 Comments · 214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
इल्म़
इल्म़
Shyam Sundar Subramanian
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
हिरनगांव की रियासत
हिरनगांव की रियासत
Prashant Tiwari
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
बच्चे आज कल depression तनाव anxiety के शिकार मेहनत competiti
पूर्वार्थ
माना के वो वहम था,
माना के वो वहम था,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
दूसरों के अनुभव से लाभ उठाना भी एक अनुभव है। इसमें सत्साहित्
Dr. Pradeep Kumar Sharma
'मजदूर'
'मजदूर'
Godambari Negi
शुभ धाम हूॅं।
शुभ धाम हूॅं।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
2566.पूर्णिका
2566.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*सीता नवमी*
*सीता नवमी*
Shashi kala vyas
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
🙏❌जानवरों को मत खाओ !❌🙏
Srishty Bansal
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
बने महब्बत में आह आँसू
बने महब्बत में आह आँसू
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शेर अर्ज किया है
शेर अर्ज किया है
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दस्ताने
दस्ताने
Seema gupta,Alwar
अहसास
अहसास
Sandeep Pande
*सपनों का बादल*
*सपनों का बादल*
Poonam Matia
लालच
लालच
Vandna thakur
" कटु सत्य "
DrLakshman Jha Parimal
💐प्रेम कौतुक-412💐
💐प्रेम कौतुक-412💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
*बाजारों में अब कहॉं, माॅलों में हैं लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ज़ब्त की जिसमें
ज़ब्त की जिसमें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...