Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2023 · 1 min read

*नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)*

नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)
—————————————-
1)
नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो
जीवन में प्रतिपल जीवन-भर, भरा हुआ उत्साह हो
2)
जैसे नदी लहर-लहराती, सागर तट तक जाती है
ठीक उसी चंचलता से, जीवन में भरा प्रवाह हो
3)
लोभ-मोह के कलुष जीव की, उन्नति में अवरोध हैं
यत्नपूर्वक सभी अवगुणों का जीवन में दाह हो
4)
बनी-बनाई पगडंडी का करूं परीक्षण सम्यक
सर्वोत्तम आदर्श हमेशा, मेरी चयनित राह हो
5)
गहन आत्म मंथन से ही, अमृत के कलश उपजते हैं
चिंतन में वह धार नित बसे, जिसकी कहीं न थाह हो
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर, उत्तर प्रदेश
मोबाइल 9997615451

196 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
किसी के अंतर्मन की वो आग बुझाने निकला है
कवि दीपक बवेजा
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
Dr Arun Kumar shastri एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
अब मैं बस रुकना चाहता हूं।
PRATIK JANGID
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
संस्कारों के बीज
संस्कारों के बीज
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वक़्त की पहचान🙏
वक़्त की पहचान🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
3279.*पूर्णिका*
3279.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
🙅आज का मैच🙅
🙅आज का मैच🙅
*प्रणय प्रभात*
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
होली कान्हा संग
होली कान्हा संग
Kanchan Khanna
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
"कैंची"
Dr. Kishan tandon kranti
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
8) दिया दर्द वो
8) दिया दर्द वो
पूनम झा 'प्रथमा'
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
उल्लाला छंद विधान (चन्द्रमणि छन्द) सउदाहरण
Subhash Singhai
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
आँखे हैं दो लेकिन नज़र एक ही आता है
शेखर सिंह
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
इंजी. संजय श्रीवास्तव
Sometimes a thought comes
Sometimes a thought comes
Bidyadhar Mantry
जिंदगी का सवेरा
जिंदगी का सवेरा
Dr. Man Mohan Krishna
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
माना दौलत है बलवान मगर, कीमत समय से ज्यादा नहीं होती
पूर्वार्थ
सोन चिरैया
सोन चिरैया
Mukta Rashmi
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
काव्य में सत्य, शिव और सौंदर्य
कवि रमेशराज
साथ
साथ
Dr fauzia Naseem shad
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
प्रेम और घृणा दोनों ऐसे
Neelam Sharma
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
*दानवीर व्यापार-शिरोमणि, भामाशाह प्रणाम है (गीत)*
Ravi Prakash
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
भारत को आखिर फूटबौळ क्यों बना दिया ? ना पड़ोसियों के गोल पोस
DrLakshman Jha Parimal
Loading...