Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

नई जगह ढूँढ लो

तुम अब घर से
बाहर भी मत निकलना
और तुम मत अब घर के
भीतर भी रहना ।

मत सोचना कि
चंद्र और सूर्य पर
या फिर इस पृथ्वी पर
एक देश में, किसी शहर में
किसी गांव में या मोहल्ले में
या फिर किसी मकान में
जिसे तुम घर बनाती हो
तुम्हारे लिए उस घर में भी
किसी कोने में भी
कहीं कोई ऐसी जगह है
जहाँ तुम्हारी मर्यादा
सुरक्षित है, रक्षित है ।

तुम्हें भेड़िये मिलेंगे
हर जगह, हर कहीं
तुम्हारे पीहर में
तुम्हारे पड़ोस में
तुम्हारे पति के घर में
तुमने जिसे मन से चाहा
उसके मन में आँगन में
तुम्हारे प्रेमी में
हर रिश्ते की ओट में
छिपे हो सकते हैं ये
भेड़िये,
इन्हें तुमसे कोई
लगाव नहीं,
प्रेम नहीं,
स्नेह नहीं,
दया भाव तो बिलकुल भी नहीं ।

तो तुम आज से ही
अपने लिए कोई नई जगह ढूंढ लो,
जो इस धरती पर तो हरगिज नहीं ।

(C)@*दीपक कुमार श्रीवास्तव “नील पदम् “*

3 Likes · 1 Comment · 1251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
तुझे खुश देखना चाहता था
तुझे खुश देखना चाहता था
Kumar lalit
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
आ गई रंग रंगीली, पंचमी आ गई रंग रंगीली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*
*"गौतम बुद्ध"*
Shashi kala vyas
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
💐प्रेम कौतुक-550💐
💐प्रेम कौतुक-550💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Shabdo ko adhro par rakh ke dekh
Sakshi Tripathi
कंक्रीट के गुलशन में
कंक्रीट के गुलशन में
Satish Srijan
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
*श्रीराम और चंडी माँ की कथा*
Kr. Praval Pratap Singh Rana
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
काम ये करिए नित्य,
काम ये करिए नित्य,
Shweta Soni
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
विलोमात्मक प्रभाव~
विलोमात्मक प्रभाव~
दिनेश एल० "जैहिंद"
We Would Be Connected Actually
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
"भीमसार"
Dushyant Kumar
मुल्क
मुल्क
DR ARUN KUMAR SHASTRI
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
*साला-साली मानिए ,सारे गुण की खान (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
फिर एक समस्या
फिर एक समस्या
A🇨🇭maanush
हम्मीर देव चौहान
हम्मीर देव चौहान
Ajay Shekhavat
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
बेदर्दी मौसम दर्द क्या जाने ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
उफ़ ये अदा
उफ़ ये अदा
Surinder blackpen
5. इंद्रधनुष
5. इंद्रधनुष
Rajeev Dutta
"बाकी"
Dr. Kishan tandon kranti
वक़्त का सबक़
वक़्त का सबक़
Shekhar Chandra Mitra
Loading...