Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2023 · 1 min read

धोखे से मारा गद्दारों,

धोखे से मारा गद्दारों,
आते समक्ष दिखला देते।
तुम होते कितने फन्ने खां,
वहीं धरती में दफना देते।

होती गर जंग सामने से,
पुलवामा कथा और होती।
लाशों में लाश गिराते हम,
सालों तक औलादें रोती।

हे! मां के लाल प्रणाम मेरा,
तुमने अपना हक़ अदा किया।
उन वीरों को श्रद्धा अर्पण,
जिसने माटी को लहू दिया।
– सतीश ‘सृजन’

1 Like · 265 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
🙏🙏🙏🙏🙏🙏
Neelam Sharma
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
मेरे गली मुहल्ले में आने लगे हो #गजल
Ravi singh bharati
23/212. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/212. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
न  सूरत, न  शोहरत, न  नाम  आता  है
न सूरत, न शोहरत, न नाम आता है
Anil Mishra Prahari
बरसात
बरसात
Bodhisatva kastooriya
संचित सब छूटा यहाँ,
संचित सब छूटा यहाँ,
sushil sarna
■ दोहे फागुन के...
■ दोहे फागुन के...
*Author प्रणय प्रभात*
सर्जिकल स्ट्राइक
सर्जिकल स्ट्राइक
लक्ष्मी सिंह
प्रेम
प्रेम
विमला महरिया मौज
"हठी"
Dr. Kishan tandon kranti
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
मौहब्बत की नदियां बहा कर रहेंगे ।
Phool gufran
घड़ियाली आँसू
घड़ियाली आँसू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
रोशनी की भीख
रोशनी की भीख
Shekhar Chandra Mitra
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पुरुष को एक ऐसी प्रेमिका की चाह होती है!
पूर्वार्थ
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
रिश्ते (एक अहसास)
रिश्ते (एक अहसास)
umesh mehra
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
ज़मी के मुश्किलो ने घेरा तो दूर अपने साये हो गए ।
'अशांत' शेखर
भीष्म के उत्तरायण
भीष्म के उत्तरायण
Shaily
एक शाम उसके नाम
एक शाम उसके नाम
Neeraj Agarwal
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
मंहगाई  को वश में जो शासक
मंहगाई को वश में जो शासक
DrLakshman Jha Parimal
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
धमकी तुमने दे डाली
धमकी तुमने दे डाली
Shravan singh
गुरु महिमा
गुरु महिमा
विजय कुमार अग्रवाल
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
रंगों का त्यौहार है, उड़ने लगा अबीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...