Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Dec 2023 · 1 min read

धृतराष्ट्र की आत्मा

धृतराष्ट्र को मरे यूं तो कई युग बीत गए
बस ! कहने भर को ।
उसकी आत्मा अब भी विचरती है ,
नजर चाहिए उसे देखने को ।
कई दुशासन और दुर्योधन ,
जन्म लेते हैं रोज ,
हर घड़ी ,हर पल ,
हर आयु की नारी की मान प्रतिष्ठा,
हरने को ।
तैयार खड़े रहते हैं ,
समाज को दूषित करने को ।
अब कहां है ? कान्हा!
क्यों नहीं आता।
बचाने असंख्य द्रोपदीयों ,
की लाज को ।

Language: Hindi
2 Comments · 223 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
इस गुज़रते साल में...कितने मनसूबे दबाये बैठे हो...!!
Ravi Betulwala
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
गलतियां ही सिखाती हैं
गलतियां ही सिखाती हैं
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तेरे जवाब का इंतज़ार
तेरे जवाब का इंतज़ार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
आप सभी को नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाएँ
डॉ.सीमा अग्रवाल
2437.पूर्णिका
2437.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जब सब्र आ जाये तो....
जब सब्र आ जाये तो....
shabina. Naaz
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
दुख भोगने वाला तो कल सुखी हो जायेगा पर दुख देने वाला निश्चित
dks.lhp
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
हर सुबह जन्म लेकर,रात को खत्म हो जाती हूं
Pramila sultan
Those who pass through the door of the heart,
Those who pass through the door of the heart,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
तुम किसी झील का मीठा पानी..(✍️kailash singh)
Kailash singh
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
शादी
शादी
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
भगतसिंह का क़र्ज़
भगतसिंह का क़र्ज़
Shekhar Chandra Mitra
*
*"माँ"*
Shashi kala vyas
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
निभाना साथ प्रियतम रे (विधाता छन्द)
नाथ सोनांचली
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
*आए अंतिम साँस, इमरती चखते-चखते (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
लौट आओ ना
लौट आओ ना
VINOD CHAUHAN
"बहरापन"
Dr. Kishan tandon kranti
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
अरे मुंतशिर ! तेरा वजूद तो है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
💐प्रेम कौतुक-94💐
💐प्रेम कौतुक-94💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
प्रणय 10
प्रणय 10
Ankita Patel
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
🦋 आज की प्रेरणा 🦋
Tarun Singh Pawar
Loading...