Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2023 · 1 min read

धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)

धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है (मुक्तक)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
न जाने लोग कैसे थे, नहीं विश्वास आता है
न जिनके स्वप्न पैसे थे, नहीं विश्वास आता है
चले जो खोलने, विद्यालयों को देश की खातिर
धरा पर लोग ऐसे थे, नहीं विश्वास आता है
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता :रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तरप्रदेश
मोबाइल 999 761 5451

390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
*गोल- गोल*
*गोल- गोल*
Dushyant Kumar
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गल्प इन किश एंड मिश
गल्प इन किश एंड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
खो दोगे
खो दोगे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
"उड़ान"
Yogendra Chaturwedi
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
बेपनाह थी मोहब्बत, गर मुकाम मिल जाते
Aditya Prakash
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
रमेशराज के 12 प्रेमगीत
कवि रमेशराज
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*Author प्रणय प्रभात*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/77.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
हम जब लोगों को नहीं देखेंगे जब उनकी नहीं सुनेंगे उनकी लेखनी
DrLakshman Jha Parimal
फूल चुन रही है
फूल चुन रही है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कैसे कहें घनघोर तम है
कैसे कहें घनघोर तम है
Suryakant Dwivedi
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
*नए वर्ष में स्वस्थ सभी हों, धन-मन से खुशहाल (गीत)*
Ravi Prakash
"दिल में झाँकिए"
Dr. Kishan tandon kranti
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
समय न मिलना यें तो बस एक बहाना है
Keshav kishor Kumar
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
लड़को की योग्यता पर सवाल क्यो
भरत कुमार सोलंकी
दो शे' र
दो शे' र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
“बदलते रिश्ते”
“बदलते रिश्ते”
पंकज कुमार कर्ण
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
हाँ ये सच है कि मैं उससे प्यार करता हूँ
Dr. Man Mohan Krishna
बाल कविता : रेल
बाल कविता : रेल
Rajesh Kumar Arjun
ख़याल
ख़याल
नन्दलाल सुथार "राही"
मैं स्वयं को भूल गया हूं
मैं स्वयं को भूल गया हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...