Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

धरती पुलकित हो उठे आज

धरती पुलकित हो उठे आज
जगती का दुःख हरना होगा ।
इस कर्म-भूमि में असुरों से
फिर धर्म-युद्ध करना होगा ।।
कितने वीरों ने झूम-झूम
फाँसी का फंदा चूम-चूम ।
अपनी रक्तिम प्रति बूँद-बूँद
अर्पित की आँखें मूँद-मूँद ।।
इतिहास रचा हर बाला ने
गर्वित होकर कहना होगा । इस कर्म-भूमि
कटते दुष्टों के रुण्ड-मुण्ड
गिरते भू पर थे झुंड-झुंड ।
थी नीति कृष्ण की धूम-धूम
अर्जुन वाणो ने घूम-घूम ।।
उत्थान किया था भारत का
संस्मरण तुम्हें रखना होगा । इस कर्म-भूमि
मत शक्ति स्वयं की भूल-भूल
उठ सिन्धु लाँघ तू कूल-कूल।
बल,क्षमा-नीति का मूल-मूल
दुर्बलता जग का शूल-शूल।।
क्यों चुप बैठे हो युवा आज
मानव हित में मरना होगा ।
परिजन, यदि दुर्जन,नाश करो
अर्जुन सा दुःख सहना होगा ।।
इस कर्म-भूमि ………।

Language: Hindi
291 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मिली उर्वशी अप्सरा,
मिली उर्वशी अप्सरा,
लक्ष्मी सिंह
चिला रोटी
चिला रोटी
Lakhan Yadav
ना हो अपनी धरती बेवा।
ना हो अपनी धरती बेवा।
Ashok Sharma
"दुखती रग.." हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
काँटों के बग़ैर
काँटों के बग़ैर
Vishal babu (vishu)
सनम
सनम
Satish Srijan
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
पति पत्नी में परस्पर हो प्यार और सम्मान,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
Loving someone you don’t see everyday is not a bad thing. It
पूर्वार्थ
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
पाती प्रभु को
पाती प्रभु को
Saraswati Bajpai
ऐसा लगता है कि
ऐसा लगता है कि
*Author प्रणय प्रभात*
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
दौर कागजी था पर देर तक खतों में जज्बात महफूज रहते थे, आज उम्
Radhakishan R. Mundhra
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet kumar Shukla
"लोकगीत" (छाई देसवा पे महंगाई ऐसी समया आई राम)
Slok maurya "umang"
हम
हम
Shriyansh Gupta
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
*पुण्य कमाए तब मिले, पावन पिता महान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/254. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
किस गुस्ताखी की जमाना सजा देता है..
कवि दीपक बवेजा
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
जो लोग ये कहते हैं कि सारे काम सरकार नहीं कर सकती, कुछ कार्य
Dr. Man Mohan Krishna
देशभक्त
देशभक्त
Shekhar Chandra Mitra
हाइकु - 1
हाइकु - 1
Sandeep Pande
"यह भी गुजर जाएगा"
Dr. Kishan tandon kranti
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
सबसे बढ़कर जगत में मानवता है धर्म।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
पढ़े साहित्य, रचें साहित्य
संजय कुमार संजू
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
परिंदा हूं आसमां का
परिंदा हूं आसमां का
Praveen Sain
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
ऐसा बदला है मुकद्दर ए कर्बला की ज़मी तेरा
shabina. Naaz
Loading...