Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Oct 2022 · 1 min read

धन की देवी

देख दृश्य संसार का,
कुछ नया व्यापार का,
एक भिखारी खटखटाया,
दरवाजा मंदिर के द्वार का।
बहुत दिनों से सोचता था,
पर आज कहने आया हूँ,
माँ मेरा कुछ शिकायत है,
जो आज सुनाने आया हूँ।
अक्सर सुना है इन्सानों की,
दोरंगी नजर होती है,
तेरी नजरों की कोई रंग नहीं,
फिर भी कई रंग तू बिखेरती है।
दौलतवाले को दौलत पर दौलत,
भिखारी को ढंग से भीख नहीं,
ये कैसी तेरी लीला है माँ,
जहाँ मिलता किसी को सीख नहीं।
भ्रष्ट को तेरा साथ है मिलता,
भ्रष्टता ही तेरी पूजा है,
ईमानदारी से रूठ गई है तू,
सच्चाई को ऐसा लगता है।
तुम धन की देवी हो,
धन से ही खुश होती हो,
अनादर तेरी करता है जो,
उसी पर मोहित होती हो।
लगता है व्यापारी हो तुम,
व्यापार ही तुमको भाता है,
जो धन से पूजा करे तेरी,
उसी पर धन बरसाती हो।
फिर हम जैसो को क्या,
जिसको तन-मन है पर धन नहीं,
लगता है नर्क ही अपना धन है,
और दौलत से कोई संबंध नहीं।
धनवानों को धनवान बनाना,
गरीबों को भिखारी,
यहीं आशिर्वाद है तेरी,
मान ली है दुनिया सारी।

कुंदन सिंह बिहारी(मा०शिक्षक)
उत्क्रमित माध्यमिक वि०अकाशी
सासाराम, रोहतास

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 206 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
*वह भी क्या दिन थे : बारात में नखरे करने के 【हास्य-व्यंग्य 】
Ravi Prakash
मन का आंगन
मन का आंगन
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
मेरी कविता
मेरी कविता
Raju Gajbhiye
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
प्रभु शुभ कीजिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
क्या लिखूँ
क्या लिखूँ
Dr. Rajeev Jain
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
माँ की कहानी बेटी की ज़ुबानी
Rekha Drolia
International Camel Year
International Camel Year
Tushar Jagawat
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
दोलत - शोरत कर रहे, हम सब दिनों - रात।
Anil chobisa
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
चलो माना तुम्हें कष्ट है, वो मस्त है ।
Dr. Man Mohan Krishna
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बे-असर
बे-असर
Sameer Kaul Sagar
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
307वीं कविगोष्ठी रपट दिनांक-7-1-2024
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
नारियां
नारियां
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
किया है तुम्हें कितना याद ?
किया है तुम्हें कितना याद ?
The_dk_poetry
2910.*पूर्णिका*
2910.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
होली के हुड़दंग में ,
होली के हुड़दंग में ,
sushil sarna
सुनो स्त्री,
सुनो स्त्री,
Dheerja Sharma
फितरत जग एक आईना
फितरत जग एक आईना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
नीरज…
नीरज…
Mahendra singh kiroula
कलरव में कोलाहल क्यों है?
कलरव में कोलाहल क्यों है?
Suryakant Dwivedi
तेरी कमी......
तेरी कमी......
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
मैं हर चीज अच्छी बुरी लिख रहा हूॅं।
सत्य कुमार प्रेमी
केवल “ॐ” कार है
केवल “ॐ” कार है
Neeraj Mishra " नीर "
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
वक्त बर्बाद करने वाले को एक दिन वक्त बर्बाद करके छोड़ता है।
Paras Nath Jha
जिंदगी का सवाल आया है।
जिंदगी का सवाल आया है।
Dr fauzia Naseem shad
"रहमत"
Dr. Kishan tandon kranti
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
मसला ये नहीं की उसने आज हमसे हिज्र माँगा,
Vishal babu (vishu)
■ छोटी दीवाली
■ छोटी दीवाली
*प्रणय प्रभात*
Loading...