Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2023 · 1 min read

धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के

** गीतिका **
~~
कुम्भलगढ़ का दुर्ग धन्य है, धन्य धन्य है राजस्थान।
धन्य सूर्य मेवाड़ भूमि के, महाराणा प्रताप महान।

शौर्य पराक्रम और त्याग का, जिसने रच डाला इतिहास।
मान हुया अकबर का मर्दन, लौटी मातृभूमि की शान।

नामंजूर किए अकबर की, पराधीनता के प्रस्ताव।
जीत नहीं पाया प्रताप को, सनकी बादशाह शैतान।

बातें करता खूब हवा से, चेतक था उनका प्रिय अश्व।
हल्दीघाटी रण में जिसने, खूब मचा दिया घमासान।

आजीवन संघर्ष किया पर, कभी नहीं मानी है हार।
साथ रहे कुल देव हमेशा, शंकर एकलिंग भगवान।

राणा सांगा बप्पा रावल, राणाजी कुम्भा हम्मीर।
आज सभी वीरों के पग में, नतमस्तक है हिन्दुस्तान।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, मण्डी (हि.प्र.)

1 Like · 266 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
2970.*पूर्णिका*
2970.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
चंदा का अर्थशास्त्र
चंदा का अर्थशास्त्र
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
बैठाया था जब अपने आंचल में उसने।
Phool gufran
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
🍂🍂🍂🍂*अपना गुरुकुल*🍂🍂🍂🍂
Dr. Vaishali Verma
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"इबारत"
Dr. Kishan tandon kranti
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
ठग विद्या, कोयल, सवर्ण और श्रमण / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
Keep yourself secret
Keep yourself secret
Sakshi Tripathi
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
सुख-साधन से इतर मुझे तुम दोगे क्या?
Shweta Soni
■
■ "टेगासुर" के कज़न्स। 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
🥀*गुरु चरणों की धूलि*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब तू रूठ जाता है
जब तू रूठ जाता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
बुंदेली दोहा -तर
बुंदेली दोहा -तर
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
गर्म हवाओं ने सैकड़ों का खून किया है
Anil Mishra Prahari
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
सर्दी में कोहरा गिरता है बरसात में पानी।
ख़ान इशरत परवेज़
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*पल में बारिश हो रही, पल में खिलती धूप (कुंडलिया)*
*पल में बारिश हो रही, पल में खिलती धूप (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
ओढ़े  के  भा  पहिने  के, तनिका ना सहूर बा।
ओढ़े के भा पहिने के, तनिका ना सहूर बा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
शायद ये सांसे सिसक रही है
शायद ये सांसे सिसक रही है
Ram Krishan Rastogi
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
पूर्वार्थ
बगुलों को भी मिल रहा,
बगुलों को भी मिल रहा,
sushil sarna
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
शिकवा ,गिला
शिकवा ,गिला
Dr fauzia Naseem shad
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
नफरतों से अब रिफाक़त पे असर पड़ता है। दिल में शक हो तो मुहब्बत पे असर पड़ता है। ❤️ खुशू खुज़ू से अमल कोई भी करो साहिब। नेकियों से तो इ़बादत पे असर पड़ता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
Loading...