Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2023 · 1 min read

*दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】*

दौड़ा लो आया शरद, लिए शीत-व्यवहार【कुंडलिया】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
आई वर्षा कह रही , ठंडी जल की धार
दौड़ा लो आया शरद ,लिए शीत-व्यवहार
लिए शीत-व्यवहार ,मस्त संध्या मदमाती
पॉपकॉर्न की गंध ,सुहानी मन को भाती
कहते रवि कविराय ,पवन लेता अँगड़ाई
मूँगफली की चाह , धूप में खुशबू आई
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

109 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
" प्यार के रंग" (मुक्तक छंद काव्य)
Pushpraj Anant
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १०)
Kanchan Khanna
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
अंबेडकर के नाम से चिढ़ क्यों?
Shekhar Chandra Mitra
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
अगर गौर से विचार किया जाएगा तो यही पाया जाएगा कि इंसान से ज्
Seema Verma
भोले
भोले
manjula chauhan
■ सूफ़ियाना ग़ज़ल-
■ सूफ़ियाना ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
केशों से मुक्ता गिरे,
केशों से मुक्ता गिरे,
sushil sarna
💐प्रेम कौतुक-339💐
💐प्रेम कौतुक-339💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
प्यार या प्रतिशोध में
प्यार या प्रतिशोध में
Keshav kishor Kumar
मिर्जा पंडित
मिर्जा पंडित
Harish Chandra Pande
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
इमोशनल पोस्ट
इमोशनल पोस्ट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
सोच का आईना
सोच का आईना
Dr fauzia Naseem shad
खंडहर
खंडहर
Tarkeshwari 'sudhi'
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
"कोशिशो के भी सपने होते हैं"
Ekta chitrangini
"अक्षर"
Dr. Kishan tandon kranti
2569.पूर्णिका
2569.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
मेरी बातें दिल से न लगाया कर
Manoj Mahato
भूख 🙏
भूख 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#Om
#Om
Ankita Patel
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
आजा माँ आजा
आजा माँ आजा
Basant Bhagawan Roy
होली की आयी बहार।
होली की आयी बहार।
Anil Mishra Prahari
** मन मिलन **
** मन मिलन **
surenderpal vaidya
Loading...