Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jul 2016 · 1 min read

दो बह्र पर एक प्रयास

दो बहरी गजल:-
1बह्र:-2122-1122-112­2-112
2बह्र:-2122-2122-212­2-212

बेसबब रिश्ते -ओ-नातों के लिए बिफरे मिले।।
जब मिले मुझको मेरे सपने बहुत उलझे मिले।।

ज़िन्दगी जिनसे मिला सब ही बड़े नम से मिले।।
मैं उसे समझू मसीहा जो जरा हँस के मिले।।

रुक जरा पूछे इन्हे कैसी कठिन राहें रही।
ये मुसाफिर हैं पुराने आज हम जिनसे मिले।।

उस नदी का है समर्पण जो सदा बहती रहे।
राह जीवन की चले चलते हुए सब से मिले।।

जिंदगी जिनसे गुलाबी है मेरी रंगों भरी।
बस यही ख्वाहिस रहेगी वो दिये जलते मिले।।

होले होले से गुजर जाती रही अहदे वफ़ा*। promises
जब मिली यादें तेरी सपने मुझे तर-से मिले।।

लोक नजरों से मुखातिब* जो मुकम्मल* से रहे।
जानेपहचाने/ पुरे,सम्पूर्ण
उनके सिरहाने दबे ख़त भी मुझे भीगे मिले।।

हाले-दिल राहें- सफ़र ही मेरी गजलो की सदा।
गुनगुनाता हूँ इन्हे जब तो लगे अपने मिले।।
मौलिक/अप्रकाशित
आमोद बिन्दौरी

8 Comments · 645 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
छोटी कहानी -
छोटी कहानी - "पानी और आसमान"
Dr Tabassum Jahan
विरक्ति
विरक्ति
swati katiyar
सुनहरे सपने
सुनहरे सपने
Shekhar Chandra Mitra
"बोली-दिल से होली"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्कारों की रिक्तता
संस्कारों की रिक्तता
पूर्वार्थ
मुक्तक7
मुक्तक7
Dr Archana Gupta
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
2- साँप जो आस्तीं में पलते हैं
Ajay Kumar Vimal
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
Hum to har chuke hai tumko
Hum to har chuke hai tumko
Sakshi Tripathi
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सिला नहीं मिलता
सिला नहीं मिलता
Dr fauzia Naseem shad
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
मेरा दुश्मन मेरा मन
मेरा दुश्मन मेरा मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
☄️ चयन प्रकिर्या ☄️
Dr Manju Saini
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
*परिस्थिति चाहे जैसी हो, उन्हें स्वीकार होती है (मुक्तक)*
*परिस्थिति चाहे जैसी हो, उन्हें स्वीकार होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
सालगिरह
सालगिरह
अंजनीत निज्जर
प्रेम निवेश है ❤️
प्रेम निवेश है ❤️
Rohit yadav
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
मेरा जो प्रश्न है उसका जवाब है कि नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रभु की शरण
प्रभु की शरण
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
■ मज़ाक मज़ाक में....
■ मज़ाक मज़ाक में....
*Author प्रणय प्रभात*
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
धूप की उम्मीद कुछ कम सी है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक फूल की हत्या
एक फूल की हत्या
Minal Aggarwal
Loading...