Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2017 · 1 min read

दो दिन का मेहमान है

पैसा ही पैसा इस जग मे,
पैसा ही तो शान है|
तू क्यो इतराता इतना,
दो दिन का मेहमान है||

नोट बंदी पर इक कविता,
मे तो यारो वोल रहा|
अमीर के जीवन मे ,
मे जहर की पुढ़िया घोल रहा||

आधी रात के मोदी ने जी
एक फटाका फोड़ा रे|
सारे हो गये डोरा भैया,
बाप बचो ने मोड़ा रे||

नोट बंदी के कारण भैया,
रातो रात न सोते रै|
बैंको मे वो लेन लगाकर,
जीप मे पैसा ढोते रै||

नाक मे दम कर दई मोदी ने,
सारे भूखा सोते रे|
नोटो के ऊपर सोते कोई,
नोटो के कारण रोते रे

Language: Hindi
388 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2670.*पूर्णिका*
2670.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
रंगे अमन
रंगे अमन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हमारा सफ़र
हमारा सफ़र
Manju sagar
जब होती हैं स्वार्थ की,
जब होती हैं स्वार्थ की,
sushil sarna
बस कट, पेस्ट का खेल
बस कट, पेस्ट का खेल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
सदियों से जो संघर्ष हुआ अनवरत आज वह रंग लाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
आओ बैठें ध्यान में, पेड़ों की हो छाँव ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
__________________
__________________
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
चांद से सवाल
चांद से सवाल
Nanki Patre
मुक्त्तक
मुक्त्तक
Rajesh vyas
"छत का आलम"
Dr Meenu Poonia
प्यार है तो सब है
प्यार है तो सब है
Shekhar Chandra Mitra
गलतियां
गलतियां
Dr Parveen Thakur
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
मौन पर एक नजरिया / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
जो सब समझे वैसी ही लिखें वरना लोग अनदेखी कर देंगे!@परिमल
DrLakshman Jha Parimal
सादिक़ तकदीर  हो  जायेगा
सादिक़ तकदीर हो जायेगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रेस का घोड़ा
रेस का घोड़ा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"लाइलाज"
Dr. Kishan tandon kranti
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
रास्ता गलत था फिर भी मिलो तब चले आए
कवि दीपक बवेजा
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
अगर तूँ यूँहीं बस डरती रहेगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पहले उसकी आदत लगाते हो,
पहले उसकी आदत लगाते हो,
Raazzz Kumar (Reyansh)
Second Chance
Second Chance
Pooja Singh
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
बुढ़िया काकी बन गई है स्टार
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
★रात की बात★
★रात की बात★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...