Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

दो घूंट

अद्भूत सहास जगाया, हे मानव!
खुद को ही बहकाने का
खुशी मना रहा है या
गम छूपा रहा जमाने का।
रईस इतना हो गया या
कारोबार बढ़ा रहा महकाने का
समझ नही आता, हे मानव!
राज़ दो घूंट लगाने का॥
रूठ गया है क्या दिल तेरा
जो करता कोशिश मनाने का।
भूल गया है सब कुछ या
स्वांग रचा रहा भूलाने का।
चर्चित हो गया, हे मानव!
पाथिक राज घराने का॥
शौक इतना हो गया है या
आदि हो गया है पिने का।
भूल गया जो अपनापन या
भूला रहस्य जीने का।
पूछ ला अब तू ,हे मानव!
हाल ए दर्द सिने का॥
खूब ढूढां है ये साथी
खुशियो को मनाने का।
खूब ढूढां है तुने सहभागी
गमो को भूलाने का।
गवां दिया तुने, हे मानव!
अद्भूत प्रेम ज़माने का॥

…………संजय कुमार “संजू”

Language: Hindi
58 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजय कुमार संजू
View all
You may also like:
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
🌹मंजिल की राह दिखा देते 🌹
Dr.Khedu Bharti
ये वादियां
ये वादियां
Surinder blackpen
नारी शक्ति
नारी शक्ति
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"कर्ममय है जीवन"
Dr. Kishan tandon kranti
राहें भी होगी यूं ही,
राहें भी होगी यूं ही,
Satish Srijan
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
संसार में कोई किसी का नही, सब अपने ही स्वार्थ के अंधे हैं ।
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
रास्तो के पार जाना है
रास्तो के पार जाना है
Vaishaligoel
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
फिर झूठे सपने लोगों को दिखा दिया ,
DrLakshman Jha Parimal
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
इश्क में हमको नहीं, वो रास आते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
यदि मैं अंधभक्त हूँ तो, तू भी अंधभक्त है
gurudeenverma198
भारत माँ के वीर सपूत
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
छोटे-मोटे कामों और
छोटे-मोटे कामों और
*Author प्रणय प्रभात*
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
अपनों को थोड़ासा समझो तो है ये जिंदगी..
'अशांत' शेखर
कर्म-बीज
कर्म-बीज
Ramswaroop Dinkar
अब तो आ जाओ कान्हा
अब तो आ जाओ कान्हा
Paras Nath Jha
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
जरुरत क्या है देखकर मुस्कुराने की।
Ashwini sharma
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
बहुत याद आएंगे श्री शौकत अली खाँ एडवोकेट
Ravi Prakash
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
कब बोला था / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
मैं तुम्हें लिखता रहूंगा
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
!! परदे हया के !!
!! परदे हया के !!
Chunnu Lal Gupta
इश्क इवादत
इश्क इवादत
Dr.Pratibha Prakash
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
इस दुनिया में किसी भी व्यक्ति को उसके अलावा कोई भी नहीं हरा
Devesh Bharadwaj
इंसानियत अभी जिंदा है
इंसानियत अभी जिंदा है
Sonam Puneet Dubey
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...