Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2023 · 1 min read

दो खग उड़े गगन में , प्रेम करते होंगे क्या ?

दो खग उड़े गगन में
प्रेम करते होंगे क्या ?
जब कभी सूर्य लालिमा, पड़ती होगी इन पर
ये भी एक दूसरे को छेड़ते होंगे क्या ?
साथ चुगना साथ उड़ना
बस दिखता हैं, मुझको इनमें
ये भी खुले गगन में प्रेम करते होंगे क्या ?

खुले आसमा में उड़ना और प्रेम करना
बस ये ही जीवन का आधार इनका
कभी एक दूजे से, ये भी बिछड़ते होंगे क्या ?

यदि इन पंछियों में से इक को
क़ैद पिंजरे में कैद करलें कोई
ये भी इक दूसरे बिन जी सके होंगे क्या ?

क़ैद पंछी को पिंजरे में
सब सुख सुविधाएं हैं
पिंजरा भी सोने का है
है हीरे मोती भी उस पर जड़े

दूजे पंछी का उसके बिन
उड़ना लगे मुश्किल बड़ा
जो कभी इस गगन में
कभी गोते लगाया करता था

क्या क़ैदी पंछी
दाना पानी खाता होगा
क्या दूजा पंछी उसे थोड़ा याद आता होगा
क्या वो भी रात में रोता होगा
क्या उसे भी अब चैन आता होगा
शायद! वो पिंजरे की शानो शौक़त देख
दूजे पंछी को भूल गया होगा

✍️ D. K

1 Like · 160 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
खुद में, खुद को, खुद ब खुद ढूंढ़ लूंगा मैं,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2313.
2313.
Dr.Khedu Bharti
" SHOW MUST GO ON "
DrLakshman Jha Parimal
मेरे प्यारे भैया
मेरे प्यारे भैया
Samar babu
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
पंक्षी पिंजरों में पहुँच, दिखते अधिक प्रसन्न ।
Arvind trivedi
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
*देह बनाऊॅं धाम अयोध्या, मन में बसते राम हों (गीत)*
Ravi Prakash
चरम सुख
चरम सुख
मनोज कर्ण
"तेरी याद"
Pushpraj Anant
दूध बन जाता है पानी
दूध बन जाता है पानी
कवि दीपक बवेजा
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
काश हर ख़्वाब समय के साथ पूरे होते,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
गए थे दिल हल्का करने,
गए थे दिल हल्का करने,
ओसमणी साहू 'ओश'
****बसंत आया****
****बसंत आया****
Kavita Chouhan
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
नवल प्रभात में धवल जीत का उज्ज्वल दीप वो जला गया।
Neelam Sharma
पवन
पवन
Dinesh Kumar Gangwar
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
ऐसे हंसते रहो(बाल दिवस पर)
gurudeenverma198
मैं एक महल हूं।
मैं एक महल हूं।
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
न कुछ पानें की खुशी
न कुछ पानें की खुशी
Sonu sugandh
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
वक्त बड़ा बेरहम होता है साहब अपने साथ इंसान से जूड़ी हर यादो
Ranjeet kumar patre
पुस्तक
पुस्तक
Vedha Singh
क्रोध
क्रोध
ओंकार मिश्र
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
प्यार के बारे में क्या?
प्यार के बारे में क्या?
Otteri Selvakumar
* प्यार के शब्द *
* प्यार के शब्द *
surenderpal vaidya
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
माना की देशकाल, परिस्थितियाँ बदलेंगी,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
दुनिया  की बातों में न उलझा  कीजिए,
दुनिया की बातों में न उलझा कीजिए,
करन ''केसरा''
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
अगर.... किसीसे ..... असीम प्रेम करो तो इतना कर लेना की तुम्ह
पूर्वार्थ
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
निगाहें मिलाके सितम ढाने वाले ।
Phool gufran
Loading...