Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jul 2023 · 1 min read

#दोहा

#दोहा
■ विश्वासघात समाज, संगठन, सियासत व सार्वजनिक जीवन में पग-पग पर।।

Language: Hindi
1 Like · 277 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Blabbering a few words like
Blabbering a few words like " live as you want", "pursue you
Sukoon
"मायने"
Dr. Kishan tandon kranti
जहाँ करुणा दया प्रेम
जहाँ करुणा दया प्रेम
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जाति-पाति देखे नहीं,
जाति-पाति देखे नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर दिन माँ के लिए
हर दिन माँ के लिए
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
एक छोटी सी तमन्ना है जीन्दगी से।
एक छोटी सी तमन्ना है जीन्दगी से।
Ashwini sharma
" समय बना हरकारा "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
मेरे स्वप्न में आकर खिलखिलाया न करो
Akash Agam
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
National Cancer Day
National Cancer Day
Tushar Jagawat
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
भीम आयेंगे आयेंगे भीम आयेंगे
gurudeenverma198
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
ससुराल से जब बेटी हंसते हुए अपने घर आती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Rashmi Sanjay
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
अज्ञानता निर्धनता का मूल
अज्ञानता निर्धनता का मूल
लक्ष्मी सिंह
कुदरत के रंग....एक सच
कुदरत के रंग....एक सच
Neeraj Agarwal
इजोत
इजोत
श्रीहर्ष आचार्य
गांव की याद
गांव की याद
Punam Pande
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
बुंदेली दोहा गरे गौ (भाग-2)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
कुछ लोग ऐसे भी मिले जिंदगी में
शेखर सिंह
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
*** पल्लवी : मेरे सपने....!!! ***
VEDANTA PATEL
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
3388⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
ताउम्र करना पड़े पश्चाताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मेरे जैसा
मेरे जैसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
#शेर-
#शेर-
*प्रणय प्रभात*
दुनिया अब व्यावसायिक हो गई है,रिश्तों में व्यापार का रंग घुल
दुनिया अब व्यावसायिक हो गई है,रिश्तों में व्यापार का रंग घुल
पूर्वार्थ
Loading...