Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 1 min read

देश के जवान तुम वीर हो महान हो

“देश के जवान तुम वीर हो महान हो ,
स्वतंत्रता के लाज तुम शौर्य का प्रमाण हो ,
बिना रुके बिना थके बिना डरे बिना गिरे ,
तुम करते शत्रु पर प्रहार हो .
सामने पहाड़ हो या युद्ध का मैदान हो ,
शत्रु की ललकार हो या बहती रक्तधार हो ,
झुके न तुम थमे न तुम ,
भारत माँ के लाल तुम देश का अभिमान हो .
शत्रु दाल को रौंदते ,सिंह सा दहाड़ते
२४ घंटे आठो पहर देश को सँभालते ,
कश्मीर हो या हो आसाम ,
चाहे पंजाब या राजस्थान
माटी का एक बी कतरा बी ,
देते नहीं तुम शत्रु को दान .
इस माटी के तुम पूत अनोखे ,
जब जाते हो तिरंगे में लपेटे .
भारत माँ का बच्चा बच्चा ,
कहता है अपने आसुओ को समेटे .!!
भारत माँ के लाडले हम ,
तुम्हारे कर्जदार हैं ,
इस माटी के वास्ते दिए ,
तुमने अगणित बलिदान हैं .
हे भारत माँ के वीर जवान ,
तुम करते हो जवानी देश के नाम
देख तेरी शहादत पर ,
उमड़ा है पूरा हिंदुस्तान .”!!!

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 1231 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
बहुत कुछ अधूरा रह जाता है ज़िन्दगी में
शिव प्रताप लोधी
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
चतुर लोमड़ी
चतुर लोमड़ी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
काश अभी बच्चा होता
काश अभी बच्चा होता
साहिल
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
कोई आपसे तब तक ईर्ष्या नहीं कर सकता है जब तक वो आपसे परिचित
Rj Anand Prajapati
🙅कही-अनकही🙅
🙅कही-अनकही🙅
*Author प्रणय प्रभात*
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
दायरे से बाहर (आज़ाद गज़लें)
AJAY PRASAD
श्रीराम का पता
श्रीराम का पता
नन्दलाल सुथार "राही"
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
*
*"परछाई"*
Shashi kala vyas
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
*खाओ गरम कचौड़ियॉं, आओ यदि बृजघाट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दुकान वाली बुढ़िया
दुकान वाली बुढ़िया
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
"परोपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
अछय तृतीया
अछय तृतीया
Bodhisatva kastooriya
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
सरिए से बनाई मोहक कलाकृतियां……..
सरिए से बनाई मोहक कलाकृतियां……..
Nasib Sabharwal
यारों का यार भगतसिंह
यारों का यार भगतसिंह
Shekhar Chandra Mitra
तड़पता भी है दिल
तड़पता भी है दिल
हिमांशु Kulshrestha
इन आँखों को हो गई,
इन आँखों को हो गई,
sushil sarna
दिनांक:-२३.०२.२३.
दिनांक:-२३.०२.२३.
Pankaj sharma Tarun
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
गौतम बुद्ध है बड़े महान
गौतम बुद्ध है बड़े महान
Buddha Prakash
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
"रामनवमी पर्व 2023"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
बात कलेजे से लगा, काहे पलक भिगोय ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रभु नृसिंह जी
प्रभु नृसिंह जी
Anil chobisa
जीवन दर्शन
जीवन दर्शन
Prakash Chandra
Loading...