Oct 15, 2016 · 1 min read

देख सूरत उसकी सारी शिकायते दूर हो जाती है/मंदीप

देख सूरत उसकी सारी शिकायते दूर हो जाती है,
ना जाने क्यों देख उस को चहरे पर लाली छा जाती है।

देखती हजारो सूरत हर रोज आँखे मेरी,
क्यों उस को देख आँखे चमकने लग जाती है।

दिल को मिलने लगा सुकून उस का साथ पाकर,
अब दूर जाने की बात ना करना आँखे मेरी भर जाती है।

हो अगर दिल में सच्चा प्यार किसी के लिए,
दो अलग अलग मजहब एक हो जाती है।

मिलता नही”मंदीप” किसी को सच्चा प्यार इस जहान में,
लेकिन दो तड़पती रूह इस जहान में मिल ही जाती है ।

मंदीपसाई

160 Views
You may also like:
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
*साधुता और सद्भाव के पर्याय श्री निर्भय सरन गुप्ता :...
Ravi Prakash
अपने मन की मान
जगदीश लववंशी
💐💐धड़कता दिल कहे सब कुछ तुम्हारी याद आती है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुस्तक समीक्षा-"तारीखों के बीच" लेखक-'मनु स्वामी'
Rashmi Sanjay
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विसाले यार
Taj Mohammad
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पापा की परी...
Sapna K S
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पानी का दर्द
Anamika Singh
कलयुग की पहचान
Ram Krishan Rastogi
अथर्व को जन्म दिन की शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
If we could be together again...
Abhineet Mittal
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सूरज का ताप
सतीश मिश्र "अचूक"
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*स्मृति डॉ. उर्मिलेश*
Ravi Prakash
कुछ झूठ की दुकान लगाए बैठे है
Ram Krishan Rastogi
कड़वा सच
Rakesh Pathak Kathara
Little sister
Buddha Prakash
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
वैश्या का दर्द भरा दास्तान
Anamika Singh
हर ख्वाहिश।
Taj Mohammad
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
ग्रीष्म ऋतु भाग ४
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...