Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

देख तुम्हें जीती थीं अँखियाँ….

देख तुम्हें जीतीं थीं अँखियाँ,
रोएँ अब दिन-रैन।
खटते-खटते बीती उमरिया,
मिला न मन को चैन।

जब से तुमसे लगन लगी थी।
प्यास हृदय में जगन लगी थी।
फेर लिया तुमने मुख अपना।
टूट गया ज्यों हर सुख-सपना।
अधर मूक अवरुद्ध कंठ है,
पथराए से नैन।

पलभर तुम बिन रहा न जाए।
दर्द विरह का सहा न जाए।
विरह-विदग्धा बनी तापसी।
अब कैसे भी हो न वापसी।
कैसे बात करूँ मैं दिल की,
हलक न आए बैन।

कौन गमों की मदिरा ढाले ?
रह जाते रीते सुख-प्याले।
तन दुखता है, मन रोता है।
भाग्य कहाँ कह तू सोता है ?
ले दल-बल बेखौफ साथ में,
मार मारता मैन।

खटते-खटते बीती उमरिया,
मिला न मन को चैन।

© सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उ.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ.सीमा अग्रवाल
View all
You may also like:
वसंततिलका छन्द
वसंततिलका छन्द
Neelam Sharma
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
बिखरे सपनों की ताबूत पर, दो कील तुम्हारे और सही।
Manisha Manjari
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2023
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
आंखों में हया, होठों पर मुस्कान,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
बोलो_क्या_तुम_बोल_रहे_हो?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
कभी छोड़ना नहीं तू , यह हाथ मेरा
gurudeenverma198
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
एक गुल्लक रख रखी है मैंने,अपने सिरहाने,बड़ी सी...
पूर्वार्थ
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
★महाराणा प्रताप★
★महाराणा प्रताप★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
कोई ख़्वाब है
कोई ख़्वाब है
Dr fauzia Naseem shad
विश्वास
विश्वास
Paras Nath Jha
नशा मुक्त अभियान
नशा मुक्त अभियान
Kumud Srivastava
तुम
तुम
हिमांशु Kulshrestha
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुआओं में जिनको मांगा था।
दुआओं में जिनको मांगा था।
Taj Mohammad
2729.*पूर्णिका*
2729.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"जिसका जैसा नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
ठुकरा दिया है 'कल' ने आज मुझको
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
कौन यहाँ पढ़ने वाला है
Shweta Soni
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
क्षणिकाएं
क्षणिकाएं
Suryakant Dwivedi
उम्मीद.............एक आशा
उम्मीद.............एक आशा
Neeraj Agarwal
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आईना देख
आईना देख
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
सब्र करते करते
सब्र करते करते
Surinder blackpen
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
नजरो नजरो से उनसे इकरार हुआ
Vishal babu (vishu)
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
तुम नि:शब्द साग़र से हो ,
Stuti tiwari
Loading...