Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 1 min read

दूसरा मौका

प्रत्येक रूप में ही अच्छा लगे, ये मोहब्बत तो आठवां अजूबा है।
पूरा जग है काॅंटों की शैय्या, मख़मली गुल तो केवल महबूबा है।
उसके जीवन से द्वंद्व दूर रहें, जो शान्त प्रीत के सागर में डूबा है।
प्रीत बिना न मन, न ही जन, यह वर्षों पुराने इश्क़ का तजुर्बा है।

घृणा से भरी इस दुनिया में, प्रीत का रस फिर से घुलना चाहिए।
प्यार व तकरार, इन दोनों को, एक दूसरा मौका मिलना चाहिए।

कभी प्रेमियों का सच्चा प्यार, लोगों के षड्यंत्र में फंस जाता है।
ज़माने की बेड़ियों का कांटा, उनके अंतर्मन में ही धंस जाता है।
लगती है ऐसी भीषण आग, इश्क़ का गुलिस्तां झुलस जाता है।
फिर हरियाली देखने को, हर आशिक आजीवन तरस जाता है।

पूरा चमन झुलस जाने के बाद, नई कलियों को खिलना चाहिए।
प्यार व तकरार, इन दोनों को, एक दूसरा मौका मिलना चाहिए।

जो इश्क़ का महत्त्व जान लेगा, तो यह निर्दयी ज़माना बदलेगा।
जब बदलाव की पुरवाई चलेगी, तब इश्क़ का फसाना बदलेगा।
प्यार न रहेगा मामूली चीज़, जब आशिक का नज़राना बदलेगा।
जिस रोज़ मुकम्मल होगा इश्क़, सोचने का ढंग पुराना बदलेगा।

इन बंदिशों को देखकर, प्रेमियों का हौंसला नहीं हिलना चाहिए।
प्यार व तकरार, इन दोनों को, एक दूसरा मौका मिलना चाहिए।

Language: Hindi
5 Likes · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
View all
You may also like:
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जीवन के लक्ष्य,
जीवन के लक्ष्य,
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सेवा जोहार
सेवा जोहार
नेताम आर सी
खुश रहने की कोशिश में
खुश रहने की कोशिश में
Surinder blackpen
नारियों के लिए जगह
नारियों के लिए जगह
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
माँ
माँ
Raju Gajbhiye
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
Aaj Aankhe nam Hain,🥹
SPK Sachin Lodhi
बदनाम गली थी
बदनाम गली थी
Anil chobisa
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
बेमौसम की देखकर, उपल भरी बरसात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/08.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रणय
प्रणय
Neelam Sharma
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
मेरी आंखों ने कुछ कहा होगा
Dr fauzia Naseem shad
वैमनस्य का अहसास
वैमनस्य का अहसास
Dr Parveen Thakur
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
मेरी ख़्वाहिशों में बहुत दम है
Mamta Singh Devaa
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
मेरे सिवा कौन इतना, चाहेगा तुमको
gurudeenverma198
"प्यार का सफ़र" (सवैया छंद काव्य)
Pushpraj Anant
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
क्यों गए थे ऐसे आतिशखाने में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
समय ही अहंकार को पैदा करता है और समय ही अहंकार को खत्म करता
Rj Anand Prajapati
धन्य होता हर व्यक्ति
धन्य होता हर व्यक्ति
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरा प्रदेश
मेरा प्रदेश
Er. Sanjay Shrivastava
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
■ भाषा संस्कारों का दर्पण भी होती है श्रीमान!!
*Author प्रणय प्रभात*
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
*मेले में ज्यों खो गया, ऐसी जग में भीड़( कुंडलिया )*
Ravi Prakash
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
भए प्रगट कृपाला, दीनदयाला,
Shashi kala vyas
★किसान ★
★किसान ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
तेरे इश्क़ में थोड़े घायल से हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सब अपनो में व्यस्त
सब अपनो में व्यस्त
DrLakshman Jha Parimal
Loading...