Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

दुविधा

उस दिन एक युवा से बातचीत करने का
अवसर मिला ,
वर्तमान परिपेक्ष पर चर्चा करने पर उसने कहा , आजीविका कमाने का उद्देश्य उसके लिए
सर्वोपरि है ,
अन्य ज्ञान की बातें, संस्कार, नीति, आदर्श सब भूख के सामने खोखली हैं ,
दिन भर नौकरी की तलाश से थका मांदा जब वह घर लौटता है,
तब उसकी बाट जोहती जिज्ञासु माँ की प्रश्नवाचक आँखों का सामना नहीं कर पाता है,
प्रतिभा, ज्ञान एवं नैतिक मूल्य भ्रष्टाचार के अथाह सागर में डूबती नाव बनकर रह गए हैं ,
जिसमें अपने संस्कार ,मूल्य एवं आदर्श की तिलांजलि दे, कुछेक अनीति की पतवार के सहारे तर गए हैं,
उसके अंतर्निहित संस्कार एवं मूल्य उसे अनीति की पतवार थामने से रोक रहे हैं ,
दिन प्रतिदिन चिंता, अवसाद एवं कुंठा के अंधेरे बादल उसके अस्तित्व को घेर रहे हैं,
उसकी स्थिति किंकर्तव्यविमूढ़़ त्रिशंकु बनकर
रह गई है ,
उसकी जीवन नैया डूबने के कगार पर खड़ी प्रतीत हो रही है।

213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Shyam Sundar Subramanian
View all
You may also like:
इज़हार कर ले एक बार
इज़हार कर ले एक बार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
कोशिश कर रहा हूँ मैं,
Dr. Man Mohan Krishna
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
*रे इन्सा क्यों करता तकरार* मानव मानव भाई भाई,
Dushyant Kumar
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
ये प्यार की है बातें, सुनलों जरा सुनाउँ !
DrLakshman Jha Parimal
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
शिक़ायत (एक ग़ज़ल)
Vinit kumar
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
*ख़ुद मझधार में होकर भी...*
Rituraj shivem verma
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
है तो है
है तो है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
वक़्त ने हीं दिखा दिए, वक़्त के वो सारे मिज़ाज।
Manisha Manjari
सुन सको तो सुन लो
सुन सको तो सुन लो
Shekhar Chandra Mitra
विषय - पर्यावरण
विषय - पर्यावरण
Neeraj Agarwal
फांसी का फंदा भी कम ना था,
फांसी का फंदा भी कम ना था,
Rahul Singh
वही पर्याप्त है
वही पर्याप्त है
Satish Srijan
"गुलशन"
Dr. Kishan tandon kranti
"बचपने में जानता था
*Author प्रणय प्रभात*
अपना सपना :
अपना सपना :
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
تہذیب بھلا بیٹھے
تہذیب بھلا بیٹھے
Ahtesham Ahmad
*टमाटर (बाल कविता)*
*टमाटर (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
नदी का किनारा ।
नदी का किनारा ।
Kuldeep mishra (KD)
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
हुनर मौहब्बत के जिंदगी को सीखा गया कोई।
Phool gufran
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
सदा बढ़ता है,वह 'नायक' अमल बन ताज ठुकराता।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
मोहब्बत है अगर तुमको जिंदगी से
gurudeenverma198
थोथा चना
थोथा चना
Dr MusafiR BaithA
2713.*पूर्णिका*
2713.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नाही काहो का शोक
नाही काहो का शोक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी,
Santosh Shrivastava
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
Loading...