Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Sep 2016 · 1 min read

दुर्मिल सवैया :– चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! -भाग -2

दुर्मिल सवैया :– भाग -2
चित चोर बड़ा बृजभान सखी !
मात्राभार :–
112 -112 -112 -112
112 -112 -112 -112

!! 4 !!

धरुं धीर शरीर अधीर हुआ
मन हार गयो मुसकान सखी !

सिर मोर मुखौट लटें लटकी
बड़ सुन्दर है परिधान सखी !

कर चक्र धरे कमलाकर वो
भुज सौ गज से बलवान सखी !

सब बाल सखा गुणगान करें
जब नाग बनो जलयान सखी !

!! 5 !!
छिति में जल में अरु अम्बर में
चहुंओर चला जसगान सखी !

बृज का नंदलाल गुपाल अ है
चितचोर बड़ा बृजभान सखी !!

गिरिधारि कहो मुरलीघर वो
सब नाम जपें भगवान सखी !

धन धान्य अपार भरा बृज में
खुशहाल सभी खलिहान सखी !

कवि :– अनुज तिवारी “इन्दवार”

Language: Hindi
1 Like · 674 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
जड़ता है सरिस बबूल के, देती संकट शूल।
आर.एस. 'प्रीतम'
होटल में......
होटल में......
A🇨🇭maanush
माँ का महत्व
माँ का महत्व
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
इंसान कहीं का भी नहीं रहता, गर दिल बंजर हो जाए।
Monika Verma
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
🎋🌧️सावन बिन सब सून ❤️‍🔥
डॉ० रोहित कौशिक
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
*खुलकर ताली से करें, प्रोत्साहित सौ बार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
बादल बनके अब आँसू आँखों से बरसते हैं ।
Neelam Sharma
#शर्माजीकेशब्द
#शर्माजीकेशब्द
pravin sharma
मौन संवाद
मौन संवाद
Ramswaroop Dinkar
Choose yourself in every situation .
Choose yourself in every situation .
Sakshi Tripathi
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
Transparency is required to establish a permanent relationsh
Transparency is required to establish a permanent relationsh
DrLakshman Jha Parimal
चंदा की डोली उठी
चंदा की डोली उठी
Shekhar Chandra Mitra
"रात यूं नहीं बड़ी है"
ज़ैद बलियावी
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
रानी लक्ष्मीबाई का मेरे स्वप्न में आकर मुझे राष्ट्र सेवा के लिए प्रेरित करना ......(निबंध) सर्वाधिकार सुरक्षित
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
अंधकार जो छंट गया
अंधकार जो छंट गया
Mahender Singh
2404.पूर्णिका
2404.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िंदगी थी कहां
ज़िंदगी थी कहां
Dr fauzia Naseem shad
दूसरों की राहों पर चलकर आप
दूसरों की राहों पर चलकर आप
Anil Mishra Prahari
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
दलित साहित्य के महानायक : ओमप्रकाश वाल्मीकि
Dr. Narendra Valmiki
सच तो फूल होते हैं।
सच तो फूल होते हैं।
Neeraj Agarwal
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
बहुत याद आता है मुझको, मेरा बचपन...
Anand Kumar
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
जब अथक प्रयास करने के बाद आप अपनी खराब आदतों पर विजय प्राप्त
Paras Nath Jha
माँ का एहसास
माँ का एहसास
Buddha Prakash
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
छाया हर्ष है _नया वर्ष है_नवराते भी आज से।
Rajesh vyas
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
समय सीमित है इसलिए इसे किसी और के जैसे जिंदगी जीने में व्यर्
Shashi kala vyas
ज़िन्दगी की गोद में
ज़िन्दगी की गोद में
Rashmi Sanjay
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
Loading...