Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2023 · 1 min read

“दुर्भिक्ष”

“दुर्भिक्ष”
क्या बीतती है पूछो उससे
जिसने बच्चे बेच दिए,
पेट की आग बुझाने की खातिर
जिसने खुद को बेच दिए।
जमीन-जायदाद सब कुछ बेची
फिर बची ना कुछ,
किस-विध जीते वे लोग भला
अब कुछ मत पूछ।
– डॉ. किशन टण्डन क्रान्ति

5 Likes · 2 Comments · 273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
तेरा कंधे पे सर रखकर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
अमिट सत्य
अमिट सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
घुंटन जीवन का🙏
घुंटन जीवन का🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
मरने में अचरज कहाँ ,जीने में आभार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
कभी गिरने नहीं देती
कभी गिरने नहीं देती
shabina. Naaz
"अपनी माँ की कोख"
Dr. Kishan tandon kranti
आज का यथार्थ~
आज का यथार्थ~
दिनेश एल० "जैहिंद"
" नैना हुए रतनार "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
2448.पूर्णिका
2448.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
श्री राम का जीवन– गीत
श्री राम का जीवन– गीत
Abhishek Soni
,,,,,,,,,,,,?
,,,,,,,,,,,,?
शेखर सिंह
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
उस दिन
उस दिन
Shweta Soni
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
दिल में गीत बजता है होंठ गुनगुनाते है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मिष्ठी रानी गई बाजार
मिष्ठी रानी गई बाजार
Manu Vashistha
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
दूसरे का चलता है...अपनों का ख़लता है
Mamta Singh Devaa
💐प्रेम कौतुक-239💐
💐प्रेम कौतुक-239💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
सुबह सुबह घरवालो कि बाते सुनकर लगता है ऐसे
ruby kumari
जीवन का मकसद क्या है?
जीवन का मकसद क्या है?
Buddha Prakash
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
তোমার চরণে ঠাঁই দাও আমায় আলতা করে
Arghyadeep Chakraborty
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
मेरा सुकून....
मेरा सुकून....
Srishty Bansal
Loading...