Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 May 2023 · 1 min read

दुआ

दुआ जरूरी है तरक्की के लिए,
बुजुर्गों की दुआ साथ होगी,
तो इस धरा पर मानवता का कल्याण होगा।
………..
दुआ के लिए सबसे जरूरी कर्म होता है,
कर्म ही वह नाव है,
जिसके सत्कर्म और दुष्कर्म दो पतवार हैं।
अगर सत्कर्म करोगे तो भवसागर से पार हो जाओगे,
वरना दुष्कर्म तो मनुष्य बीच मंझदार में ही छोड़ देंगे।
…………….
सत्कर्म करने वालों के लिए,
स्वर्ग नरक सब इस धरा पर ही विद्यमान होता है,
अच्छे कर्म करोगे तो समाज से अच्छी दुआ मिलेगी,
बुरे कर्मों से सर्वनाश तय है और,
इस परिस्थिति में ईश भी साथ नहीं देते।
……..
दुआ लेने के लिए,
सज्जन निष्काम कर्म करने की सलाह देते हैं,
निष्काम कर्म करने वाला कभी भी परेशान नहीं होता,
अपितु वह तो दिन दोगुनी,
और रात चौगुनी तरक्की करता है।
…………
इसलिए हे मानव,
समाज में सत्कर्म करो और,
समाज की दुआएं लेते रहो,
यही कल्याणकारी होगा और,
मोक्ष प्राप्ति में साधक भी होगा।

घोषणा – उक्त रचना मौलिक अप्रकाशित एवं स्वरचित है। यह रचना पहले फेसबुक पेज या व्हाट्स एप ग्रुप पर प्रकाशित नहीं हुई है।

डॉ प्रवीण ठाकुर
भाषा अधिकारी
निगमित निकाय भारत सरकार
शिमला हिमाचल प्रदेश।

Language: Hindi
257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
आज पलटे जो ख़्बाब के पन्ने - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
खो गए हैं ये धूप के साये
खो गए हैं ये धूप के साये
Shweta Soni
■ आज का शेर...।
■ आज का शेर...।
*Author प्रणय प्रभात*
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
।।आध्यात्मिक प्रेम।।
Aryan Raj
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
देख भाई, सामने वाले से नफ़रत करके एनर्जी और समय दोनो बर्बाद ह
ruby kumari
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
मेरा दुश्मन
मेरा दुश्मन
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Where is love?
Where is love?
Otteri Selvakumar
रंगों का बस्ता
रंगों का बस्ता
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कलियुग
कलियुग
Bodhisatva kastooriya
अतिथि हूं......
अतिथि हूं......
Ravi Ghayal
प्रेम ईश्वर
प्रेम ईश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक,  तूँ  है
'आप ' से ज़ब तुम, तड़ाक, तूँ है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
मधुशाला में लोग मदहोश नजर क्यों आते हैं
कवि दीपक बवेजा
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
गम के पीछे ही खुशी है ये खुशी कहने लगी।
सत्य कुमार प्रेमी
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
3376⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कलयुग मे घमंड
कलयुग मे घमंड
Anil chobisa
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
इंसान एक खिलौने से ज्यादा कुछ भी नहीं,
शेखर सिंह
मक्खन बाजी
मक्खन बाजी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अक्ल के दुश्मन
अक्ल के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
किरायेदार
किरायेदार
Keshi Gupta
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
जिस काम से आत्मा की तुष्टी होती है,
Neelam Sharma
दिखावे के दान का
दिखावे के दान का
Dr fauzia Naseem shad
कर्मों के परिणाम से,
कर्मों के परिणाम से,
sushil sarna
#गुलमोहरकेफूल
#गुलमोहरकेफूल
कार्तिक नितिन शर्मा
"तलबगार"
Dr. Kishan tandon kranti
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मेरे बुद्ध महान !
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
Loading...