Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

काश – दीपक नील पदम्

काश ये क़यामत थोड़ा पहले आती,

ख़ुदा की कसम कोई बात बन जाती,

अपनी आँखों में होती चमक सितारों की,

ज़िन्दगी किस कदर बदल जाती ।

यूँही फिरते रहे अंधेरों में,

बेसबब, बेपरवाह यूँही एकाकी,

दीप जलाने का होश तब आया,

जब दीपक से रूठ गई बाती ।

मेरे शहर में नहीं रिवाज़ माना लिखने का,

लबों से भी ये बात कही नहीं जाती,

तुम्हें पता था जब हालातों का,

तुम ही लिख देते कोई पाती ।

तुम तो जाते हो बदलकर रिश्ते,

कैसे ढूंढें कोई नया साकी,

इस तरह जीने से तो अच्छा था,

जान कमबख्त ये निकल जाती ।

(c)@ दीपक कुमार श्रीवास्तव ” नील पदम् “

2 Likes · 2 Comments · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
तुम घर से मत निकलना - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"कहानी मेरी अभी ख़त्म नही
पूर्वार्थ
🙅आज का सवाल🙅
🙅आज का सवाल🙅
*प्रणय प्रभात*
भरी महफिल
भरी महफिल
Vandna thakur
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
ग़ज़ल (जब भी मेरे पास वो आया करता था..)
ग़ज़ल (जब भी मेरे पास वो आया करता था..)
डॉक्टर रागिनी
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
गर्मी
गर्मी
Dhirendra Singh
इंतजार करते रहे हम उनके  एक दीदार के लिए ।
इंतजार करते रहे हम उनके एक दीदार के लिए ।
Yogendra Chaturwedi
मीनाबाजार
मीनाबाजार
Suraj Mehra
उठ जाग मेरे मानस
उठ जाग मेरे मानस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"खामोशी"
Dr. Kishan tandon kranti
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
*कहाँ साँस लेने की फुर्सत, दिनभर दौड़ लगाती माँ 【 गीत 】*
Ravi Prakash
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
बुद्धं शरणं गच्छामि
बुद्धं शरणं गच्छामि
Dr.Priya Soni Khare
अपनी तस्वीर
अपनी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
3319.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3319.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
दोहावली
दोहावली
Prakash Chandra
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
प्यारा भारत देश हमारा
प्यारा भारत देश हमारा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
मिट न सके, अल्फ़ाज़,
Mahender Singh
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
समस्याओं के स्थान पर समाधान पर अधिक चिंतन होना चाहिए,क्योंकि
Deepesh purohit
Loading...