Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2023 · 1 min read

दिव्य दृष्टि बाधित

शीर्षक – दिव्य दृष्टि बाधित लोग
————————————————————

दिव्य दृष्टि बाधित लोग भी इंसान होते हैं।

जीवन में यह भी हैरान परेशान रहते हैं।

शोषण और लाचारी का फायदा लोग उठाते हैं।

हम समाज के साथ जीवन यापन करते हैं।

दिव्य दृष्टि बाधित लोगों को दृष्टि वाले ही न समझते हैं।

मानसिक शारीरिक सभी शोषण कर मानव समझते हैं।

दिव्य दृष्टि बाधित लोग तो अंधकार उजाला न समझते हैं।

हम सब समाजिक प्राणी जो दृष्टि के साथ अपराध करते हैं।

जीवन के रंगमंच में हम सभी को कर्म और धर्म निभाने है।

आज राह दिव्य दृष्टि बाधित लोग की हम सभी जानते हैं।

कठिन जीवन को अनमोल दिव्य दृष्टि बाधित लोग कहते हैं।

आओ कदम बढ़ाये कुछ दिव्य दृष्टि बाधित लोगों का सहयोग कर रहे हैं।

जीवन जिंदगी के रंगमंच में कुछ दया धर्म हम सभी रखते हैं।

पुण्य और ईश्वर के सच और कर्म हम सभी जानते और मानते हैं।

नीरज अग्रवाल
401, मंगल निलय, शक्ति नगर,
चन्दौसी, जनपद सम्भल उप्र
संपर्क 9997292446

Language: Hindi
349 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
बातें
बातें
Sanjay ' शून्य'
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
आधा - आधा
आधा - आधा
Shaily
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
तुम्हारे इंतिज़ार में ........
sushil sarna
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
अगले बरस जल्दी आना
अगले बरस जल्दी आना
Kavita Chouhan
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
एक ख़त रूठी मोहब्बत के नाम
अजहर अली (An Explorer of Life)
#ekabodhbalak
#ekabodhbalak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
विश्व हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
कहीं पहुंचने
कहीं पहुंचने
Ranjana Verma
"परोपकार के काज"
Dr. Kishan tandon kranti
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
अनन्त तक चलना होगा...!!!!
Jyoti Khari
Love Is The Reason Behind
Love Is The Reason Behind
Manisha Manjari
रिटर्न गिफ्ट
रिटर्न गिफ्ट
विनोद सिल्ला
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
माँ
माँ
Anju
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*Author प्रणय प्रभात*
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
" बहुत बर्फ गिरी इस पेड़ पर
Saraswati Bajpai
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
हो मापनी, मफ़्हूम, रब्त तब कहो ग़ज़ल।
सत्य कुमार प्रेमी
* मंजिल आ जाती है पास *
* मंजिल आ जाती है पास *
surenderpal vaidya
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
आस नहीं मिलने की फिर भी,............ ।
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Just lost in a dilemma when the abscisic acid of negativity
Sukoon
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
दर्द: एक ग़म-ख़्वार
Aditya Prakash
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-486💐
💐प्रेम कौतुक-486💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
*मेरे सरकार आते हैं (सात शेर)*
Ravi Prakash
Loading...