Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Apr 2024 · 1 min read

दिल के रिश्ते

दिल के रिश्ते हम निभायेंगे उम्र भर।
साथ तेरा न हम छोड़ पायेंगे उम्र भर।

कितने दुख सुख साथ बांटे हैं हमने
वादा है दिल न दुखायेंगे उम्र भर।

तू हमसफ़र है तो , क्या कमी होगी ,
वादा हर अपना निभाएंगे उम्र भर।

हंसते-खेलते कट जायेगी दुश्वारियां
हम हर हाल जीत पायेंगे उम्र भर।

देखो रूठने की बात ,न करना कभी
कैसे फिर तुमको मनाएंगे उम्र भर।

सुरिंदर कौर

52 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
कह दिया आपने साथ रहना हमें।
surenderpal vaidya
भगवान भी शर्मिन्दा है
भगवान भी शर्मिन्दा है
Juhi Grover
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
*अपनी-अपनी जाति को, देते जाकर वोट (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
तन्हाई
तन्हाई
ओसमणी साहू 'ओश'
सूरज
सूरज
PRATIBHA ARYA (प्रतिभा आर्य )
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
अपनी ही निगाहों में गुनहगार हो गई हूँ
Trishika S Dhara
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
अजीब मानसिक दौर है
अजीब मानसिक दौर है
पूर्वार्थ
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3494.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
*माँ सरस्वती जी*
*माँ सरस्वती जी*
Rituraj shivem verma
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
हरतालिका तीज की काव्य मय कहानी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
" जलाओ प्रीत दीपक "
Chunnu Lal Gupta
गुलाब के काॅंटे
गुलाब के काॅंटे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
पनघट और पगडंडी
पनघट और पगडंडी
Punam Pande
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
*शब्दों मे उलझे लोग* ( अयोध्या ) 21 of 25
Kshma Urmila
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
ଆପଣଙ୍କର ଅଛି।।।
Otteri Selvakumar
ज़िंदगानी
ज़िंदगानी
Shyam Sundar Subramanian
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
खुद क्यों रोते हैं वो मुझको रुलाने वाले
VINOD CHAUHAN
अभी गनीमत है
अभी गनीमत है
शेखर सिंह
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
सफ़ीना छीन कर सुनलो किनारा तुम न पाओगे
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
मेरी जान बस रही तेरे गाल के तिल में
Devesh Bharadwaj
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
*मनायेंगे स्वतंत्रता दिवस*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
कान्हा भजन
कान्हा भजन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कर्म कांड से बचते बचाते.
कर्म कांड से बचते बचाते.
Mahender Singh
जीवन का किसी रूप में
जीवन का किसी रूप में
Dr fauzia Naseem shad
माँ की याद आती है ?
माँ की याद आती है ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
Loading...