Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Nov 2016 · 1 min read

दिल्ली पर ताजा विचार

दिल्ली में जो पेश किया गया वो तो एक नजराना है ।
(वर्तमान में जो दिल्ली में स्मोग है )
इस पर भी बहुतों का अपना अपना बहाना है ।।
जब इस नजराने को सारे विश्व में प्रस्तुत किया जाएगा ।
क्या कोई अपने आपको इससे बचा पाएगा ?
कितने ही फिल्टर उपयोग कर लेना, कितने ही प्रयत्न कर लेना
कुछ भी काम ना आएगा ।
जब सारे विश्व में प्रकृति का प्रकोप छाएगा।।
– नवीन कुमार जैन

Language: Hindi
435 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
-अपनी कैसे चलातें
-अपनी कैसे चलातें
Seema gupta,Alwar
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
Dr . Arun Kumar Shastri - ek abodh balak
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
ज़िंदगी ख़ुद ब ख़ुद
Dr fauzia Naseem shad
वो ऊनी मफलर
वो ऊनी मफलर
Atul "Krishn"
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
उसको ख़ुद से ही ये गिला होगा ।
Neelam Sharma
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
विश्व की पांचवीं बडी अर्थव्यवस्था
Mahender Singh
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
कद्र जिनकी अब नहीं वो भी हीरा थे कभी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
शीर्षक:
शीर्षक: "ओ माँ"
MSW Sunil SainiCENA
नजर  नहीं  आता  रास्ता
नजर नहीं आता रास्ता
Nanki Patre
ज्ञान~
ज्ञान~
दिनेश एल० "जैहिंद"
विचार और रस [ दो ]
विचार और रस [ दो ]
कवि रमेशराज
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
* बेटों से ज्यादा काम में आती हैं बेटियॉं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
# नमस्कार .....
# नमस्कार .....
Chinta netam " मन "
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
In adverse circumstances, neither the behavior nor the festi
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सब पर सब भारी ✍️
सब पर सब भारी ✍️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दुआ सलाम
दुआ सलाम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
गीत... (आ गया जो भी यहाँ )
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
नफ़रत कि आग में यहां, सब लोग जल रहे,
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
सैनिक के संग पूत भी हूँ !
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
प्रिंट मीडिया का आभार
प्रिंट मीडिया का आभार
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
2599.पूर्णिका
2599.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
फटे रह गए मुंह दुनिया के, फटी रह गईं आंखें दंग।
*Author प्रणय प्रभात*
अबके रंग लगाना है
अबके रंग लगाना है
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
पुच्छल दोहा
पुच्छल दोहा
सतीश तिवारी 'सरस'
यह हिन्दुस्तान हमारा है
यह हिन्दुस्तान हमारा है
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
युद्ध के मायने
युद्ध के मायने
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
प्रकृति
प्रकृति
Bodhisatva kastooriya
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
Loading...