Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Apr 2024 · 1 min read

“दिल्लगी”

“दिल्लगी”
दिल की लगी को
यूँ ना दिल्लगी समझिए,
मौत का सामान है ये
इसे ना जिन्दगी समझिए।

1 Like · 1 Comment · 42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan tandon kranti
View all
You may also like:
तुम्हारी जय जय चौकीदार
तुम्हारी जय जय चौकीदार
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
बसंत
बसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
बीज हूँ---
बीज हूँ---
डॉक्टर रागिनी
■ नेशनल ओलंपियाड
■ नेशनल ओलंपियाड
*Author प्रणय प्रभात*
आँखों से नींदे
आँखों से नींदे
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
तुम्हारी आँखें कमाल आँखें
Anis Shah
सोच
सोच
Srishty Bansal
2907.*पूर्णिका*
2907.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
स्त्री
स्त्री
Dinesh Kumar Gangwar
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Neeraj Agarwal
"परम्परा"
Dr. Kishan tandon kranti
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
गद्य के संदर्भ में क्या छिपा है
Shweta Soni
राम कहने से तर जाएगा
राम कहने से तर जाएगा
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*बाल गीत (पागल हाथी )*
*बाल गीत (पागल हाथी )*
Rituraj shivem verma
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
गिराता और को हँसकर गिरेगा वो यहाँ रोकर
आर.एस. 'प्रीतम'
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
*आयु मानव को खाती (कुंडलिया)*
*आयु मानव को खाती (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उलझ नहीं पाते
उलझ नहीं पाते
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बेशर्मी से रात भर,
बेशर्मी से रात भर,
sushil sarna
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
यूँ ही ऐसा ही बने रहो, बिन कहे सब कुछ कहते रहो…
Anand Kumar
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
ओवर पजेसिव :समाधान क्या है ?
Dr fauzia Naseem shad
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
पड़ोसन की ‘मी टू’ (व्यंग्य कहानी)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
साँसें कागज की नाँव पर,
साँसें कागज की नाँव पर,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...