Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

[[ दिल्लगी उनकी कहानी संगदिल भाती नही ]]

?
दिल्लगी उनकी कहानी संगदिल भाती नही ,!
बात आखिर क्या हुई क्यों मुझको बतलाती नही ,!! १
?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒?
?
क्या हुई गलती मुझे कुछ तो बता अहले वफ़ा ,!
अब तो खुशियाँ भूल से भी घर मेरे आती नहीं ,!! २
?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒?
बदनसीबी ही मिली मुझको बताशा आजतक ,!
छोड़कर मुझको चले अब जिंदगी भाती नही ,!! ३
?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒?
आज फिर से हो गया हूँ , इस तरह देखो जुदा ,!
याद भी अब उनकी आकर दिल को बहलाती नहीं ,! ४
?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒?
लौटकर में आउगी कहकर गई थी वो मुझे ,!
लौटकर जो देखती थी आज मुस्काती नहीं ,!! ५
?✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒✒?
? मक्ता ?
और कोई है नहीं अब ” नितिन ” के वास्ते ,!
तोड़कर यूँ आज दिल को राज दिखलाती नही ,!! ६

376 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
देव विनायक वंदना
देव विनायक वंदना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
★उसकी यादें ★
★उसकी यादें ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
"संविधान"
Slok maurya "umang"
कैसे कहूँ किसको कहूँ
कैसे कहूँ किसको कहूँ
DrLakshman Jha Parimal
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
ग़ज़ल/नज़्म - ये प्यार-व्यार का तो बस एक बहाना है
अनिल कुमार
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
नव लेखिका
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
मत पूछो मेरा कारोबार क्या है,
Vishal babu (vishu)
दर्द ख़ामोशियों से
दर्द ख़ामोशियों से
Dr fauzia Naseem shad
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
सुरसा-सी नित बढ़ रही, लालच-वृत्ति दुरंत।
डॉ.सीमा अग्रवाल
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
टेंशन है, कुछ समझ नहीं आ रहा,क्या करूं,एक ब्रेक लो,प्रॉब्लम
dks.lhp
"गुल्लक"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरा कल! कैसा है रे तू
मेरा कल! कैसा है रे तू
Arun Prasad
जल से सीखें
जल से सीखें
Saraswati Bajpai
अनकही दोस्ती
अनकही दोस्ती
राजेश बन्छोर
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
Er. Sanjay Shrivastava
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
उत्तंग पर्वत , गहरा सागर , समतल मैदान , टेढ़ी-मेढ़ी नदियांँ , घने वन ।
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
Thunderbolt
Thunderbolt
Pooja Singh
■ नीतिगत सच...
■ नीतिगत सच...
*Author प्रणय प्रभात*
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
आती रजनी सुख भरी, इसमें शांति प्रधान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
हे!जगजीवन,हे जगनायक,
Neelam Sharma
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
* कैसे अपना प्रेम बुहारें *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
फूलों से भी कोमल जिंदगी को
Harminder Kaur
नशा
नशा
Ram Krishan Rastogi
विश्वास की मंजिल
विश्वास की मंजिल
Buddha Prakash
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
बंद मुट्ठी बंदही रहने दो
Abasaheb Sarjerao Mhaske
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
बेटियां
बेटियां
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
मैं भारत का जवान हूं...
मैं भारत का जवान हूं...
AMRESH KUMAR VERMA
बेजुबान और कसाई
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
Loading...