Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 May 2024 · 1 min read

करे मतदान

#दिनांक:-5/5/2024
#शीर्षक:- करे मतदान

बजता ढोल नगाड़ा देखो गली-गली,
रैली रोज चुनावों की अब लगे भली।
सच होता हकदार हर इक दावे का,
हल्ला बोल किया,जनता गई छली।

वार प्रतिकार प्रतिद्वंदिता का माहौल
कहीं वियक्ष दहाड़े कहीं पक्ष सुडौल।
तूती बोले भविष्य में उनकी ही यारों,
व्यंग्य में भी ना हुआ जो कल डावॉ डोल।

किया चुनाव आयोग ने,खूब गजब फरमान,
छिपे अराजक तत्व सब,देखें यही निदान।
सब जन आकर खुद करें,पूर्ण सफल अभियान,
राष्ट्र-धर्म का ध्यान धर,करें सभी मतदान।

(स्वरचित)
प्रतिभा पाण्डेय “प्रति”
चेन्नई

Language: Hindi
1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
चलो बनाएं
चलो बनाएं
Sûrëkhâ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
आपको देखते ही मेरे निगाहें आप पर आके थम जाते हैं
Sukoon
मतदान
मतदान
साहिल
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
सरकारी नौकरी में, मौज करना छोड़ो
gurudeenverma198
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
तुम्हारी आंखों के आईने से मैंने यह सच बात जानी है।
शिव प्रताप लोधी
संस्कृतियों का समागम
संस्कृतियों का समागम
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
चन्द फ़ितरती दोहे
चन्द फ़ितरती दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
दिकपाल छंदा धारित गीत
दिकपाल छंदा धारित गीत
Sushila joshi
2974.*पूर्णिका*
2974.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौत का रंग लाल है,
मौत का रंग लाल है,
पूर्वार्थ
विजयी
विजयी
Raju Gajbhiye
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
चार कंधों पर मैं जब, वे जान जा रहा था
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे जाने के बाद ,....
मेरे जाने के बाद ,....
ओनिका सेतिया 'अनु '
पेंशन
पेंशन
Sanjay ' शून्य'
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
अभिमानी सागर कहे, नदिया उसकी धार।
Suryakant Dwivedi
आप और हम
आप और हम
Neeraj Agarwal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
"इबारत"
Dr. Kishan tandon kranti
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
लिखें जो खत तुझे कोई कभी भी तुम नहीं पढ़ते !
DrLakshman Jha Parimal
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
संघर्ष वह हाथ का गुलाम है
प्रेमदास वसु सुरेखा
*****सूरज न निकला*****
*****सूरज न निकला*****
Kavita Chouhan
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
’बज्जिका’ लोकभाषा पर एक परिचयात्मक आलेख / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
पहले नाराज़ किया फिर वो मनाने आए।
सत्य कुमार प्रेमी
रिश्ता कमज़ोर
रिश्ता कमज़ोर
Dr fauzia Naseem shad
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
Loading...