Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

दिनकर/सूर्य

सात रंग का घोड़ा गाड़ी,
जिस पे दिनकर करे सवारी।
स्वर्ण प्रभा की डोरी थामे,
जग में फैलाते उजियारी|

मिटी शोहरत शशि की देखो,
नष्ट समर में तम का घेरा|
है स्वामित्व चहुँ ओर रवि का,
दोष रहित नित नभ का फेरा|
छाई है अब रश्मी सुंदर,
नभ में फैली लाली प्यारी|
सात रंग का घोड़ा गाड़ी,
जिस पे दिनकर करे सवारी।

हुआ सवेरा चिड़िया चहकी,
तितली-भौरें सब बौराये|
पुष्प-पुष्प मकरंद बिखेड़े,
हवा चले खुशबू फैलाए|
चित चंचल है मादक मधु से,
वारि कुंभ छलके फुलवारी|
सात रंग का घोड़ा गाड़ी,
जिस पे दिनकर करे सवारी।

आशा का प्रतिरूप बल्लरी,
स्वप्न परिधि से भी आगे|
टूटा है एकांत सभी का,
नवल जोश जन-जन में जागे|
प्रात काल की मधुमय बेला,
ताकतवर्धक अति सुखकारी|
सात रंग का घोड़ा गाड़ी,
जिस पे दिनकर करे सवारी।
-वेधा सिंह

Language: Hindi
Tag: गीत
72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Vedha Singh
View all
You may also like:
इल्म हुआ जब इश्क का,
इल्म हुआ जब इश्क का,
sushil sarna
भ्रांति पथ
भ्रांति पथ
नवीन जोशी 'नवल'
तुम मुझे भुला ना पाओगे
तुम मुझे भुला ना पाओगे
Ram Krishan Rastogi
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/17.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"ख़्वाब में आने का वादा जो किया है उसने।
*Author प्रणय प्रभात*
इन रावणों को कौन मारेगा?
इन रावणों को कौन मारेगा?
कवि रमेशराज
किसान आंदोलन
किसान आंदोलन
मनोज कर्ण
श्री राम आ गए...!
श्री राम आ गए...!
भवेश
उलझी हुई जुल्फों में ही कितने उलझ गए।
उलझी हुई जुल्फों में ही कितने उलझ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
" एक बार फिर से तूं आजा "
Aarti sirsat
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
पति
पति
लक्ष्मी सिंह
*दादाजी (बाल कविता)*
*दादाजी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
"कैसे व्याख्या करूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
हमेशा..!!
हमेशा..!!
'अशांत' शेखर
तरस रहा हर काश्तकार
तरस रहा हर काश्तकार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
विश्व पुस्तक दिवस पर
विश्व पुस्तक दिवस पर
Mohan Pandey
सोनू की चतुराई
सोनू की चतुराई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
हाइकु (#मैथिली_भाषा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
🚩माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
सिंहावलोकन घनाक्षरी*
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
काश! तुम हम और हम हों जाते तेरे !
The_dk_poetry
कभी भ्रम में मत जाना।
कभी भ्रम में मत जाना।
surenderpal vaidya
प्रबुद्ध कौन?
प्रबुद्ध कौन?
Sanjay ' शून्य'
यादें मोहब्बत की
यादें मोहब्बत की
Mukesh Kumar Sonkar
सुबह की नमस्ते
सुबह की नमस्ते
Neeraj Agarwal
वह
वह
Lalit Singh thakur
Loading...