Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

दान

दान धर्म का करते यहाँ कुछ लोग आडम्बर
ओढ़ मुखोटा मानवता का ऐसे कुछ लोग यहाँ

दान देते हैं कुछ ,ठंड में ओढ़ा देते हैं कम्बल
करते हैं इसका प्रचार,ताकि हो पेपर में नाम

दान देते वक़्त फ़ोटो खिंचवाते सब मिलकर साथ
दानकर्ता बनकर मजाक गरीबी का हैं उड़ाते

वोटों की हो राजनीति या पानी हो अपनी प्रशंसा
अपनी अमीरी और दुखियों की दिखाते हैं दुर्दशा

दिखावे की दुनिया में, दिखावे के हैं लोग यहाँ
जितनी हो गोपनीय दान, उससे ही बनते लोग इंसान

ममता रानी
झारखंड

5 Likes · 1 Comment · 166 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Rani
View all
You may also like:
"हास्य कथन "
Slok maurya "umang"
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
हम बात अपनी सादगी से ही रखें ,शालीनता और शिष्टता कलम में हम
DrLakshman Jha Parimal
बताइए
बताइए
Dr. Kishan tandon kranti
मंजिल न मिले
मंजिल न मिले
Meera Thakur
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
लक्ष्मी-पूजन
लक्ष्मी-पूजन
कवि रमेशराज
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
सच हकीकत और हम बस शब्दों के साथ हैं
Neeraj Agarwal
नजरिया
नजरिया
नेताम आर सी
#लघु_कविता
#लघु_कविता
*प्रणय प्रभात*
There will be moments in your life when people will ask you,
There will be moments in your life when people will ask you,
पूर्वार्थ
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
शेखर सिंह
मां का दर रहे सब चूम
मां का दर रहे सब चूम
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सागर ने भी नदी को बुलाया
सागर ने भी नदी को बुलाया
Anil Mishra Prahari
जागो रे बीएलओ
जागो रे बीएलओ
gurudeenverma198
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
ना कहीं के हैं हम - ना कहीं के हैं हम
Basant Bhagawan Roy
2705.*पूर्णिका*
2705.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
बिहार एवं झारखण्ड के दलक कवियों में विगलित दलित व आदिवासी-चेतना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
हे कृतघ्न मानव!
हे कृतघ्न मानव!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
मेरी ज़िंदगी की खुशियां
Dr fauzia Naseem shad
माटी
माटी
जगदीश लववंशी
रोबोटयुगीन मनुष्य
रोबोटयुगीन मनुष्य
SURYA PRAKASH SHARMA
काफिला
काफिला
Amrita Shukla
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
गिनती
गिनती
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रथम किरण नव वर्ष की।
प्रथम किरण नव वर्ष की।
Vedha Singh
बारिश
बारिश
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
अपना घर फूंकने वाला शायर
अपना घर फूंकने वाला शायर
Shekhar Chandra Mitra
*सेब (बाल कविता)*
*सेब (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Loading...