Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 May 2023 · 1 min read

दाना

दाना
—–
माना दाना छोटा होता,
बिन दाना नहीं दाना।
बरगद पीपल पाकड़ महुआ,
जन्म देत एक दाना।

तना डाल पत्ते जड़ कलियां,
फूल फली फिर दाना।
लम्बा गोल लघु नन्हा सा,
जिसमें अरण्य समाना।

एक दाने से कितने दाने,
दाने से फिर दाना।
हर दाने में दाना बसता,
दाना बनता दाना।

दाना दाना माला बनती,
भोजन दाना दाना।
पढ़ना दाना लिखना दाना ,
हँसना रोना दाना।

दुख है दाना सुख है दाना,
घर में उत्सव दाना।
अभिनय दाना नर्तन दाना,
सुर में गाना दाना।

दाना मिटकर दाना बनता।
दाना खोना पाना ।
जीवन सूना न हो दाना,
जग में पाना दाना।

पन आरम्भ किया है दाना।
अंत करेगा दाना।
कदर करो दाने की सदैव,
जब तक पानी दाना।

सृजन दाना दाना देता,
बिन दाना नहीं दाना।
माना दाना छोटा होता,
बिन दाना नहीं दाना।

Language: Hindi
316 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
विचारों को पढ़ कर छोड़ देने से जीवन मे कोई बदलाव नही आता क्य
Rituraj shivem verma
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
दया के पावन भाव से
दया के पावन भाव से
Dr fauzia Naseem shad
" बीता समय कहां से लाऊं "
Chunnu Lal Gupta
एक खत जिंदगी के नाम
एक खत जिंदगी के नाम
पूर्वार्थ
हकमारी
हकमारी
Shekhar Chandra Mitra
नहीं हूं...
नहीं हूं...
Srishty Bansal
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
3071.*पूर्णिका*
3071.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
असोक विजयदसमी
असोक विजयदसमी
Mahender Singh
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
सीख ना पाए पढ़के उन्हें हम
The_dk_poetry
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
आज के इस हाल के हम ही जिम्मेदार...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ सनातन विचार...
■ सनातन विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
रमेशराज के प्रेमपरक दोहे
कवि रमेशराज
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
काल भले ही खा गया, तुमको पुष्पा-श्याम
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
रंग बदलते बहरूपिये इंसान को शायद यह एहसास बिलकुल भी नहीं होत
Seema Verma
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet kumar Shukla
Ajib shakhshiyat hoti hai khuch logo ki ,
Ajib shakhshiyat hoti hai khuch logo ki ,
Sakshi Tripathi
तेरी याद
तेरी याद
Shyam Sundar Subramanian
नए पुराने रूटीन के याचक
नए पुराने रूटीन के याचक
Dr MusafiR BaithA
Dr. Arun Kumar shastri
Dr. Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
*पहिए हैं हम दो प्रिये ,चलते अपनी चाल (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जय अम्बे
जय अम्बे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ख़ामोशी से बातें करते है ।
ख़ामोशी से बातें करते है ।
Buddha Prakash
बस यूँ ही
बस यूँ ही
Neelam Sharma
ले चल मुझे उस पार
ले चल मुझे उस पार
Satish Srijan
💐अज्ञात के प्रति-26💐
💐अज्ञात के प्रति-26💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
आजावो माँ घर,लौटकर तुम
gurudeenverma198
निशानी
निशानी
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...