Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jan 2023 · 1 min read

दांतो का सेट एक ही था

गर्मी बहुत पड़ रही थी,
एक बुढिया अपने बूढ़े को,
एक हाथ से पंखा झल रही थी,
दूसरे हाथ से खाना खिला रही थी
कही खाने में मक्खी न पड़ जाए,
खाने का मजा किरकिरा न हो जाय।
बूढ़े ने खाना खा लिया था,
अब बुढ़िया के खाने की बारी थी,
खाना दोनो को था और पूरी तैयारी थी
बूढ़े ने भी बुढ़िया को खाना खिलाया,
साथ में दूसरे हाथ से पंखा झलाया,
इस घटना को मुझ जैसा कवि तक रहा था,
उससे रहा न गया और बोला
लगता है आप पति पत्नि है,
दोनो में असीम प्यार है,
फिर दोनो एक साथ खाना क्यों नही खाते ?
बारी बारी से एक दूजे को खाना क्यों खिलाते हो ?
कवि की बात सुनकर,दोनो रोने लगे,
आपस में चिपट कर रोने लगे,
बोले,हमारी भी एक मजबूरी है
इसलिए खाना खाते हम बारी बारी है।
हमारे पास दांतो का सेट एक ही है,
जब ये खाती है तो ये लगा लेती है
जब मै खाता हूं तो मैं लगा लेता हूं
कवि भी सुनकर भावुक हो गया
तुरंत एक डेंटिस्ट को बुलवाया
और दोनो के लिए अलग अलग दांतो का सेट बनवाया।
ताकि भविष्य में एक साथ खाना खा सके
और अपनी जिंदगी प्यार से बसर कर सके।

आर के रस्तोगी गुरुग्राम

Language: Hindi
2 Likes · 3 Comments · 367 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
दुख
दुख
Rekha Drolia
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
चाँद सी चंचल चेहरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
बचपन की यादों को यारो मत भुलना
Ram Krishan Rastogi
(Y) #मेरे_विचार_से
(Y) #मेरे_विचार_से
*Author प्रणय प्रभात*
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Being with and believe with, are two pillars of relationships
Sanjay ' शून्य'
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
लगाव
लगाव
Arvina
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
জীবন চলচ্চিত্রের একটি খালি রিল, যেখানে আমরা আমাদের ইচ্ছামত গ
Sakhawat Jisan
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
*छोटी होती अक्ल है, मोटी भैंस अपार * *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
मुझे भी लगा था कभी, मर्ज ऐ इश्क़,
डी. के. निवातिया
2904.*पूर्णिका*
2904.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
सलामी दें तिरंगे को हमें ये जान से प्यारा
आर.एस. 'प्रीतम'
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
हिंदी दोहा शब्द - भेद
हिंदी दोहा शब्द - भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
“देवभूमि क दिव्य दर्शन” मैथिली ( यात्रा -संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हौसले से जग जीतता रहा
हौसले से जग जीतता रहा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यार दीवाना ही नहीं होता
प्यार दीवाना ही नहीं होता
Dr Archana Gupta
तुम से प्यार नहीं करती।
तुम से प्यार नहीं करती।
लक्ष्मी सिंह
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
चांद को तो गुरूर होगा ही
चांद को तो गुरूर होगा ही
Manoj Mahato
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
बहुत सोर करती है ,तुम्हारी बेजुबा यादें।
पूर्वार्थ
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
टूटी हुई कलम को
टूटी हुई कलम को
Anil chobisa
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
इससे पहले कि ये जुलाई जाए
Anil Mishra Prahari
"रंग और पतंग"
Dr. Kishan tandon kranti
........
........
शेखर सिंह
Loading...