Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 May 2023 · 1 min read

दलाल ही दलाल (हास्य कविता)

दलाल ही दलाल (हास्य कविता)
मीडिया भी दलाल मुल़्क के हुक़्मरान भी दलाल
कौन करेगा इनके काले कारनामों का पर्दाफाश?

न्यायपालिका कार्यपालिका भी बन गए दलाल
सुना है मोटी कमाई के चक्कर मे जज साहाब भी दलाल?

मंत्री संत्री या हेडमास्टर हो या चपरासी?
जनसेवक तो बन बैठा दलालों का सरदार?

पुलिस दरोगा वकिल हो गए मालामाल?
जहाँ देखो वहीं दलाल ही दलाल?

किससे करोगे तुम फ़रियाद? कौन उठाएगा आवाज़?
मीडिया तो बन गई दलालों का दलाल?

गवाह ख़रिदे बेचे जा रहे? कोर्ट कचहरी भी बिके हुए?
देशद्रोही बना झूठे मुकदमे मे बेकसूर पीसे जा रहे?

खु़दा खै़रियत रखे लोगों का? देखो तो हर कहीं?
लूट खसोट वबाल मचाए दलाल ही दलाल.

कवि- डाॅ. किशन कारीगर
(©काॅपीपाईट)

Language: Hindi
1 Like · 508 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Kishan Karigar
View all
You may also like:
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
खारिज़ करने के तर्क / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
अरे! डॉक्टर की बीवी हो
अरे! डॉक्टर की बीवी हो
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
चमकते सूर्य को ढलने न दो तुम
कृष्णकांत गुर्जर
जवानी के दिन
जवानी के दिन
Sandeep Pande
"सफ़े"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
जीवन आसान नहीं है...
जीवन आसान नहीं है...
Ashish Morya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
46...22 22 22 22 22 22 2
46...22 22 22 22 22 22 2
sushil yadav
छल.....
छल.....
sushil sarna
3060.*पूर्णिका*
3060.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
"दो पल की जिंदगी"
Yogendra Chaturwedi
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
शिद्दत से की गई मोहब्बत
शिद्दत से की गई मोहब्बत
Harminder Kaur
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
अजनबी
अजनबी
लक्ष्मी सिंह
वृद्धावस्था
वृद्धावस्था
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
समीक्ष्य कृति: बोल जमूरे! बोल
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
*खाती दीमक लकड़ियॉं, कागज का सामान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
वो लुका-छिपी वो दहकता प्यार—
Shreedhar
जवानी
जवानी
Bodhisatva kastooriya
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
परेशां सोच से
परेशां सोच से
Dr fauzia Naseem shad
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
आँखों-आँखों में हुये, सब गुनाह मंजूर।
Suryakant Dwivedi
Loading...